मैं तब भी देशभक्त था, आज भी देशभक्त हूँ : संजय दत्त




जेल की सजा काटने वाले, नशे की बुरी लत से जूझने वाले, परिवार में उतार-चढ़ाव झेलने वाले फिर भी लोगों को हँसाने वाले मुन्ना भाई एमबीबीएस का कहना है कि वे कल भी बेगुनाह था और आज भी बेगुनाह है। उनकी माने तो उन्होंने समय के साथ बहुत कुछ सीखा और इसी अनुभवों के कारण आज भी वे बेकसूर और बेगुनाह है। लोगों का प्यार संजय दत्त के प्रति बढ़ता जा रहा है। mai aaj bhi deshbakhat hu

 
बता दें कि संजय दत्त उस समय सुर्खी में आ गए थे। जब मुंबई बम ब्लास्ट में उनका नाम सामने आया। उन पर टाडा लगाया गया। इसी कानून के तहत अदालत ने उन्हें 5 साल की सजा सुनाई थी। जिसके बाद से संजय दत्त की जीवन में मानो अँधेरा छा गया हो। फिर भी संजय दत्त ने हार नहीं मानी और जेल में अच्छे व्यवहार और कठिन परिश्रम के लिए जाने गये। अदालत ने इसी बात को ध्यान में रख कर उन्हें सजा से पूर्व ही रिहा कर दिया। उन पर अवैध आर्म्स रखने और बम विस्फोट में शामिल लोगों की सहायता करने के लिए सजा सुनाई गयी थी। mai aaj bhi deshbakhat hu




गौरतलब है कि संजय दत्त के जीवन में उतार-चढाव का शिलशिला जारी रहा। 1981 में फिल्म रॉकी से पदार्पण करने वाले दत्त उन दिनों नशे की लत में धुत हो गये थे। स्थिति तब और बिगड़ गयी जब उन्हें मुंबई बम ब्लास्ट में दोषी करार दिया गया। अब जबकि संजय दत्त पुणे की येरवडा जेल में अपनी सजा काट चुके है तो उनकी ज़िंदगी में नया सवेरा हुआ है। पिछले साल ही संजय दत्त जेल से रिहा हुए है और जल्द ही उनकी अगली फिल्म भूमि रिलीज़ होने वाली है। जिसको लेकर संजय दत्त और उनके फैंस को बड़ी उम्मीद है। mai aaj bhi deshbakhat hu

फैंस के दिल में आज भी वे हीरो है

जब संजय दत्त से उनके ख़राब दिनों के बारे में पूछा गया। तो दत्त ने कहा, ‘बहुत कुछ…मैंने बहुत कुछ सीखा। मैं उस समय भी बेगुनाह था, मैं आज भी बेगुनाह हूं, लेकिन जीवन से कुछ सबक सीखा है।’ मैं आज भी पूरी ईमानदारी से देशभक्ति निभाता हूँ। जय हिन्द mai aaj bhi deshbakhat hu
संजय दत्त के बयानों से ऐसा प्रतीत होता है कि संजय दत्त समय के साथ-साथ बहुत सम्भले है। भले ही भारतीय कानून के तहत वे दोषी पाये गये। लेकिन उनके फैंस के दिल में आज भी वे हीरो है। mai aaj bhi deshbakhat hu