जानिए राम नाथ कोविंद जी की जीवनी




“राम नाथ कोविंद” बहुमुखी प्रतिभा के धनी है। वर्तमान में देश के अगले राष्ट्रपति उम्मीदवार है। दलित परिवार से ताल्लुक रखने वाले राम नाथ का जीवन कठिन संघर्ष से गुजरा है। फिर भी अपने लक्ष्य से राम नाथ कभी पथ भ्रष्ट नहीं हुए। समाज सेवा से लेकर देश सेवा तक की जो मिसाल राम नाथ कोविंद ने देश के समक्ष प्रस्तुत किया है वो सरहनीय रहा है। आज पूरा देश राम नाथ कोविंद के राष्ट्रपति बनने के समर्थन में है और ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि राम नाथ कोविंद का राष्ट्रपति बनना लगभग तय है।

राम नाथ कोविंद का जन्म know ram nath kovind life story 

बीजेपी के भावी राष्ट्रपति उम्मीदवार राम नाथ कोविंद मूलतः उत्तर प्रदेश के रहने वाले है। इनका जन्म 1 अक्टूबर 1945 को उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात में हुआ। इन्होने कानपुर यूनिवर्सिटी से बी कॉम. और एल. एल. बी. की डिग्री हासिल की। ये बीजेपी के दलित मोर्चा के अध्यक्ष रह चुके है। जबकि दो बार ये राज्यसभा सांसद रहे हैं। पहली बार 1994 में राज्यसभा सांसद चुने गए। पेशे से वकील रहे कोविंद ऑल इंडिया कोली समाज के अध्यक्ष भी रहे हैं।।

राम नाथ कोविंद शिक्षा

राम नाथ कोविंद की प्रारम्भिक शिक्षा गांव के विद्यालय से पूरी की। इंटरस्तर की शिक्षा हेतु राम नाथ कानपूर जाया करते थे। बीएनएसडी कॉलेज से 12वीं पास की। 12 वीं पास होने के बाद इन्होने कानपूर यूनिवर्सिटी से बी कॉम की पढाई की। जबकि डीएवी लॉ कॉलेज से वकालत की पढाई की। वकालत की पढाई समाप्त करने के बाद वे दिल्ली आ गये। know ram nath kovind life story

बिहार VS उत्तर प्रदेश कौन बनेगा विजेता ?

राम नाथ कोविंद का कैरियर जीवन

राम नाथ कोविंद ने दिल्ली हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में कुल 16 वर्ष तक वकालत की प्रैक्टिस की। इसके उपरांत 1971 में वे दिल्ली बार कॉउंसिल के लिए नामांकित हुए। यही से इनके जीवन की नयी शुरुवात हुई। राम नाथ 1977 से लेकर 1979 तक दिल्ली हाई कोर्ट के सरकारी वकील नियुक्त रहे। वही 1980-93 तक सेंट्रल गवर्नमेंट के स्टैंडिंग कॉउंसिल में कार्यरत रहे। राष्ट्रिय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार में कोविंद सुप्रीम कोर्ट के जूनियर कौंसिलर रहे। know ram nath kovind life story

राम नाथ कोविंद का विवाह

राम नाथ कोविंद का विवाह 30 सितंबर 1974 ई. में सविता देवी के साथ हुई।

राम नाथ कोविंद का परिवार
राम नाथ कोविंद के परिवार में पत्नी सविता देवी के अतिरिक्त एक बेटा और बेटी है। जिनका नाम निम्न है।
बेटा-प्रशांत
बेटी-स्वाति

राम नाथ कोविंद का राजनैतिक जीवन

1977 में जनता दल की सरकार बनने के समय राम नाथ कोविंद तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के निजी सचिव थे। हालांकि, 1980 में जब जनता दल की सरकार सत्ता से पदच्युत हो गयी तो कोविंद ने 1983 में बीजेपी ज्वाइन कर ली। उस समय से ये पार्टी को अपनी सेवा दे रहे है। बीजेपी ने 1990 में कोविंद को उत्तर प्रदेश के घाटमपुर लोकसभा सीट से उम्मीदवार के रूप में खड़ा किया किन्तु इस चुनाव में वे हार गये। हारने का सिलसिला कोविंद के साथ ज्यादा जुड़ा रहा। 2007 में उन्हें बीजेपी ने पुनः भोगनीपुर से चुनाव लड़ने के लिए खड़ा किया किन्तु किस्मत ने इस बार भी धोखा दिया, और वे हार गए। know ram nath kovind life story

राम नाथ कोविंद का राज्य सभा में प्रवेश
1994 में राम नाथ कोविंद पहली बार राज्य सभा के लिए चुने गये। वे 12 साल तक राजसभा सांसद बने रहे। इस दरम्यान उन्होंने दलितों, अनुसूचित जाति और जनजाति के लिए कार्य किये। वे सदैव बीजेपी के प्रमुख दलित चेहरा बने रहे। know ram nath kovind life story

राम नाथ कोविंद की वकालत
हालांकि, राम नाथ कोविंद ने अपने जीवन में कठिन संघर्ष किया किन्तु सफल होने के बाद उन्होंने गरीबों के उत्थान के लिए हरसंभव प्रयास और सहायता की। उन्होंने वकालत के समय गरीबों के क़ानूनी लड़ाई मुफ्त में लड़ी। know ram nath kovind life story

राम नाथ कोविंद बने बिहार के गवर्नर

राम नाथ कोविंद को 8 अगस्त 2015 को बिहार का गवर्नर नियुक्त किया गया। उनके गवर्नर बनने के समय बिहार के सीएम नितीश कुमार रहे। हालांकि, नितीश कुमार ने प्रारंभ में राम नाथ कोविंद का मामूली विरोध किया था। नितीश कुमार का कहना था कि राम नाथ की नियुक्ति उनके सलाह और अनुमति के बिना की गई। know ram nath kovind life story

राम नाथ कोविंद राष्ट्रपति उम्मीदवार

19 जून 2017 को राम नाथ कोविंद को सत्ताधारी पार्टी ने राष्ट्रपति उम्मीदवार के लिए चुना।

राम नाथ कोविंद का बिहार के गवर्नर पद से इस्तीफा

राष्ट्रपति उम्मीदवार चुने जाने के एक दिन बाद यानि की 20 जून 2017 को राम नाथ कोविंद ने बिहार के गवर्नर पद से इस्तीफा दे दिया।

( प्रवीण कुमार )