बारिश में भीगने के बाद साफ़ पानी से जरुर नहायें नहीं तो हो जायेंगे बीमार





बारिश का मौसम है ऐसे में कई बीमारियां भी साथ में आ जाती हैं। बारिश में भीगने के बाद साफ पानी से न नहाने पर शरीर में कई तरह के दाने जिसमें इचिंग तो होती हैं साथ में लाल दाने, दाद, खुजली और फंगस इंफेक्शन हो सकता है। अक्सर देखा गया है कि हल्का गाली कपड़ा पहनने से भी लाल चकत्ते पड़ जाते हैं। ऐसा होने पर लोग डॉक्टर की सलाह के बिना दवा या क्रीम नहीं लेना चाहिए। डॉक्टर की सलाह के बिना दवा लेने पर स्टेरॉयड होने के कारण अक्सर समस्या बढ़ जाती है। डॉक्टर की सलाह है कि अगर बारिश में भींग गए हो तो एक बार अवश्य साफ पानी से स्नान करें। यहां खास तौर पर यह ध्यान रखें कि कपड़ा सूखा ही पहनें। होता यह है कि बारिश में अक्सर लोग हल्का गीला कपड़ा पहन लेते हैं। ऐसा कभी नहीं करना चाहिए। इससे ही दाद, खाज, खुजली की समस्या बढ़ जाती है। इसलिए सतर्कता आवश्यक है। मॉनसून में गीले कपड़े अक्सर जमीन पर मौजूद होते हैं जिसके मल से फैले प्रदूषण से बचने के लिए बेहतर साफ सफाई की बेहद आवश्यकता होती है, जो कि ऐसे समय में असंभव सा होता है। barish mei bhigne ke baad khud ko kaise bachaye

रोबोट्स मारेगा मच्छर

डॉक्टर की सलाह है कि मानसून के दौरान बच्चों पर खास ध्यान देने की जरूरत होती है। बारिश की वजह से होने वाली नमी में मक्खियां मच्छर पनपते हैं। ऐसे में आपके बच्चों के बीमार होने की आशंकाएं पहले से ज्यादा बढ़ जाती है। बारिश के मौसम में फल एवं सब्जियां साफ पानी के साथ अच्छे से धोए जाने बेहद आवश्यक है। बीमारी से बचने के लिए हो सके तो पोटाशियम परमेंगनेट का प्रयोग किया जा सकता है। डॉक्टरों की सलाह है कि खाने से पहले अच्छी तरह से हाथ धोना चाहिए और उबला हुआ पानी पीने से कीड़े के संक्रमण से बचा जा सकता है। बच्चों को बरसाती बीमारी से बचाने के लिए साल में तीन से चार बार डी वार्मिंग गोलियां देना चाहिए। जिससे कीड़े के संक्रमण में 97 फीसदी तक कमी आ जाती है। barish mei bhigne ke baad khud ko kaise bachaye



जानिए चिकनगुनिया से बचने के आसान घरेलू नुस्खा