18 अप्रैल 2018 को है अक्षय तृतीया, जानिए कथा एवम इतिहास




पौराणिक ग्रंथो के अनुसार वैशाख माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया को अक्षय तृतीया कहते है। तदनुसार, इस वर्ष अक्षय तृतीया शुक्रवार 18 अप्रैल  2018 को है। हिन्दू धार्मिक मान्यताओ के अनुसार इस दिन शुभ कार्य किये जाते है। इस दिन को किये गये धार्मिक कार्यों से अक्षय फल प्राप्त होता है। इसलिए इसे अक्षय तृतीया कहा जाता है। वैसे तो वर्ष के प्रत्येक माह में शुक्ल पक्ष की तृतीया शुभ होती है। किन्तु वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की तृतीया स्वंय सिद्ध शुभ महूर्त मानी गयी है। devotional akshaya tritiya story 

धार्मिक सन्दर्भ devotional akshaya tritiya story 

भविष्य पुराण के अनुसार इस तिथि से सतयुग तथा त्रेता युग का शुभारम्भ हुआ था। भगवान विष्णु जी ने इस दिन नर-नारायण, हयग्रीव और परशुराम जी का अवतार रूप धारण किया था। ब्रह्मा जी के पुत्र अक्षय का प्रादुर्भाव भी अक्षय तृतीया के दिन हुआ था। अक्षय तृतीया के दिन से बद्रीनाथ की प्रतिमा स्थापित कर पूजा की जाती है और इस दिन से बद्रीनाथ के लक्ष्मी-नारायण जी का दर्शन किया जाता है।अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें www.hindumythlogy.org

राम भक्त कलयुग में माता सीता को भी नहीं छोड़ते : योगेंद्र यादव