1 मार्च 2018 को है बसंत पूर्णिमा,जानिए कथा एवं इतिहास




वेदों, पुराणों एवं शास्त्रों के अनुसार हिन्दू धर्म में वर्ष के प्रत्येक माह में जिस दिन पूरा चाँद होता है। उसे पूर्णिमा माना जाता है। अतः वर्ष के पतयेक महीने में पूर्णिमा व्रत मनाया जाता है।वर्ष 2018 में फाल्गुन माह की पूर्णिमा 1 मार्च 2018को मनाया जायेगा। फाल्गुन पूर्णिमा को हिन्दू धर्म के लोग होली त्यौहार को मनाते है। इसे बसंत पूर्णिमा भी कहा जाता है क्योकि बसंत ऋतू में यह पूर्णिमा पर्व पड़ता है। vansant purnima ki katha

वसंत पूर्णिमा की कथा vansant purnima ki katha

महाकाव्य कुमार सम्भवम् में कालिदास ने इस पूर्णिमा के बारे में महिमा किया है। भगवान शिव जी की पत्नी माता सती ने पिता के द्वारा अपमानित होने के कारण खुद को यज्ञ की हवन कुण्ड में प्राण त्याग दिया था। इस बात से भगवन शिव जी अति क्रोधित हो गए थे। इस क्रोध में वो सती के शव को अपने कंधे पर ले विक्षिप्त की तरह यहाँ-वहाँ भटकने लगे। उस समय भगवान विष्णु जी ने अपने सुदर्शन चक्र से माता सती के शरीर को खंडित कर दिया था। अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें www.hindumythology.org

श्रीदेवी के पार्थिव शरीर को मुंबई लाने की मिली अनुमति