नोटबंदी से केजरीवाल कंगाल हो गया : रमेश बिधूड़ी

नई दिल्ली, सांसद एंव दिल्ली भाजपा के महामंत्री श्री रमेश बिधूड़ी के नेतृत्व में आज दक्षिणी दिल्ली संसदीय क्षेत्र के कार्यकर्ताओं ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल द्वारा विमुद्रिकरण-नोटबंदी एवं सैकड़ों अनधिकृत कालोनियों, गांवों सहित लगभग पूरी दक्षिणी दिल्ली में ठप्प पड़े विकास कार्यों को लेकर मुख्यमंत्री आवास के निकट विरोध प्रदर्शन किया।  प्रदर्शन में दिल्ली भाजपा महामंत्री श्री आशीष सूद, पार्षद नीरज गुप्ता, भाजपा नेता विक्रम बिधूड़ी, रविन्द्र चैधरी, दीपक जैन, अरविंद कुमार तथा हजारों कार्यकर्ता सम्मिलित हुये।

इस असवर पर कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुये श्री रमेश बिधूड़ी ने कहा कि मात्र 6 वर्ष के सार्वजनिक जीवन में अरविन्द केजरीवाल नोटबंदी के प्रबल समर्थक से प्रबल विरोधी बन गये हैं जिसका कारण है विगत तीन वर्ष में उनके द्वारा स्थापित आम आदमी पार्टी द्वारा अर्जित बड़ी मात्रा में नकद चंदा।  केजरीवाल का नोटबंदी का विरोध स्पष्टतः निजी हानि से प्रेरित दिखाई देता है वर्ना यह समझ से परे है कि 2011 में रामलीला मैदान में नोटबंदी के समर्थन में नारे लगवाने वाला आज नोटबंदी का विरोध क्यों कर रहा है।

उन्होंने कहा कि केजरीवाल की समस्या यह है कि उनकी पार्टी ऐसे सैंकड़ों कार्यकर्ताओं की सहायता से चलती है जिन्हें नकद वेतन मिलता है और इस समय वे पंजाब में कार्यरत हैं और इस नोटबंदी के कारण उनके पास कोई धन नहीं बचा है। उनकी यह हताशा किसी निर्धनता से उपजी है।

श्री बिधूड़ी ने कहा कि केजरीवाल दल के दक्षिणी दिल्ली के विधायक अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने में मदमस्त हैं और क्षेत्र में विकास कार्य पूरी तरह ठप्प पड़ा है।  बदरपुर, छत्तरपुर से लेकर बिजवासन तक जनता पीने के पानी के लिए त्रस्त है सड़कों की हालत खस्ता है और सरकारी स्कूलों का स्तर लगातार गिर रहा है पर केजरीवाल सरकार इस सबसे बेखबर है।  उन्होंने कहा कि सबसे बड़ी विडम्बना की बात है कि करोड़ों रूपये में बी.आर.टी. कोरिडोर को तोड़ने एवं उसके रखरखाव का ठेका दिया गया है और आज एक वर्ष बाद भी वह कोरिडोर ठीक नहीं हुआ है।  दक्षिणी दिल्ली की कालकाजी से लेकर आनंद निकेतन तक दिल्ली की सबसे सुन्दर कालोनियों के आसपास की सड़कें खासकर आउटर रिंग रोड रख रखाव के अभाव में जर्जर हो गई हैं।

अभिषेक कुमार