केजरीवाल उपराज्यपाल से टकराव छोड़ विकास पर ध्यान दें : सतीश उपाध्याय





दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष श्री सतीश उपाध्याय ने कहा है कि हम पिछले 20 माह से लगातार कह रहे हैं कि दिल्ली संविधानिक एवं प्रशासनिक संकट की ओर बढ़ रही है और आज मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने स्वयं स्वीकार लिया है कि दिल्ली में प्रशासनिक व्यवस्था चरमरा गई है एवं दिल्ली संकट की ओर बढ़ रही है। satish upadhyay given suggestion kejriwal 

खेद का विषय है कि संकट का एहसास होने के बाद भी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल आज भी दोषारोपण की राजनीति कर रहे हैं। यह शर्म का विषय है कि प्रशासनिक अधिकारों को लेकर उनकी सरकार द्वारा दिल्ली उच्चन्यायालय में दर्ज याचिका ठुकराई जाने के बाद भी वह यह स्वीकार करने को तैयार नहीं है कि उनके मंत्रिमंडल एवं सरकार द्वारा विगत 20 महीने में लिये गये निर्णय कानून एवं संविधान के दृष्टिकोण से ठीक नही हैं। satish upadhyay given suggestion kejriwal 

श्री उपाध्याय ने कहा है कि भाजपा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से निवेदन करती है कि यदि उन्हें दिल्ली की अंश मात्र भी चिंता है तो वह उपराज्यपाल से टकराव छोड़कर दिल्ली के समग्र विकास के लिये कार्य करें। satish upadhyay given suggestion kejriwal 

दिल्ली सरकार में भ्रष्टाचार और आर्थिक हेराफेरियों के मामलों को उठाते हुये दिल्ली भाजपा अध्यक्ष श्री सतीश उपाध्याय ने कहा है कि मंत्री इमरान हुसैन एवं पूर्व मंत्री असीम अहमद के भ्रष्टाचार के मामलों पर मुख्यमंत्री केजरीवाल की चुप्पी उनके दोहरे मापदंडों का प्रमाण है। इन दोनों विधायकों पर पुरानी दिल्ली में बिल्डरों से पैसे उगाही करने के आरोप हैं। satish upadhyay given suggestion kejriwal 

केजरीवाल राजनीतिक रूप से असुरक्षित व्यक्ति हैं

असीम अहमद को मंत्रिमंडल से निकालते हुये खुद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि उन पर पैसे उगाही के आरोप हैं। वहीं मंत्री इमरान के मामले में उनके क्षेत्र के एक नागरिक ने आरोप लगाया है कि उसके 80 गज के मकान को बनने देने के एवज में उन्होंने 30 लाख रूपये की मांग रखी। satish upadhyay given suggestion kejriwal 

कुछ समय पहले एक रिकॉर्डिंग सामने आई थी जिसमें हामद नामक एक व्यक्ति मंत्री इमरान और उसके भाइयों के लिये शिकायतकर्ता से पैसा मांग रहा है। इस रिकॉर्डिंग के सामने आने पर मंत्री इमरान ने कहा था कि मेरा हामद नामक इस व्यक्ति से कोई लेना देना नहीं है और अगर मेरा उससे रिश्ता साबित होगा तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा। satish upadhyay given suggestion kejriwal 

राहुल गाँधी शहीद की शहादत पर राजनीति करना बन्द करें : शहीद की विधवा

मंत्री इमरान हुसैन के उस वक्त के ब्यान का वीडियो आज पत्रकारों के समक्ष जारी कर श्री सतीश उपाध्याय ने कहा कि यह आश्चर्य का विषय है कि मंत्री जी ने कहा था कि मेरा हामद से कोई संबंध नहीं पर अभी गत 6 अक्टूबर को मंत्री इमरान ने उक्त हामद के साथ अग्रिम जमानत याचिका दायर की। satish upadhyay given suggestion kejriwal 

हम मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एवं मंत्री इमरान हुसैन से पूछना चाहते हैं कि यदि उनका हामद से कोई संबंध नही है तो फिर एक वकील आर.पी. त्यागी के माध्यम से ही इन सब की एक साथ अग्रिम जमानत याचिका कैसे दायर हुईं ? मंत्री इमरान हुसैन पर लगे आरोपों को बेहद गंभीर मानते हुये कड़कड़डूमा अदालत के अतिरिक्त सैशन जज श्री सिद्धार्थ शर्मा ने अग्रिम जमानत की याचिकाओं को खारिज कर दिया था। satish upadhyay given suggestion kejriwal 

पार्टी में बगावत का डर लगता है

श्री उपाध्याय ने कहा है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल राजनीतिक रूप से असुरक्षित व्यक्ति हैं जिसे हर वक्त अपनी पार्टी में बगावत का डर लगता है और यही डर उन्हें इमरान हुसैन, असीम अहमद, जितेन्द्र तोमर, संदीप कुमार जैसे कलंकित विधायकों पर या फिर देवेन्द्र सहरावत एवं पंकज पुष्कर जैसे बागियों पर कार्यवाही नहीं करने देता।

उन्हें मालूम है कि जैसे ही मैं किसी एक कलंकित या बागी विधायक पर कार्यवाही करूंगा तो खुली बगावत का सिलसिला प्रारम्भ हो जायेगा। श्री उपाध्याय ने कहा है कि दिल्ली भाजपा मंत्री इमरान हुसैन की बर्खास्तगी और सभी कलंकित आरोपी विधायकों के विधानसभा से निष्कासन की मांग करती है। satish upadhyay given suggestion kejriwal 

( प्रवीण शंकर कपूर )