बाल दिवस पर लाल बिहारी लाल के कुछ दोहे




दशरथ पिता नहीं रहे, कहां मिलेंगे राम। bal divs par lal bihari ke dohe 

रिश्ते भी अब नेट पर, ढूढ़े मिले तमाम।1।

पढना लाल भूल गये, संस्कारों की बात। bal divs par lal bihari ke dohe 

कौन उन्हें समझाये,आज भला यह बात।2।

बाल साहित्यकार भी,हो गये आज स्यान।

लाल भी अब ठीक-ठीक, कैसे पाये ज्ञान।3। bal divs par lal bihari ke dohe 

बाल साहित्य में छुपा, दुनिया भर का ज्ञान।

ठीक-ठीक जो पढ़ लिया,उस घर का कल्याण।4। bal divs par lal bihari ke dohe 

लाल-लाल अब ना रहा बन गया आज बाप।

खोद रहा खुद की कबर,देखों अपने आप।5। bal divs par lal bihari ke dohe 

लाल कहां अब जा रहा, देखो आज इंसान।

आज इसे यही रोको,जन-जन दो अब ध्यान।6। bal divs par lal bihari ke dohe 



 

Leave a Reply