डाक्यूमेंटरी फिल्म- आओ बसाये स्वर्ग धरती पर का विमोचन





एक पिता को उनके जन्मदिवस के शुभ अवसर पर उनकी बेटियों की तरफ सेसँपूर्ण धरती पर स्वर्ग बसाने के तोहफ़े से बेहतर और क्या उपहार हो सकता है। aao basaye swarg dharti par ka vimochan

अनुराधा प्रकाशन के प्रधानसंपादकमनमोहन शर्मा के सँचालन मेंसीता फिल्मज़ के बैनर तले बनी कविता मल्होत्रा की डॉक्यूमेंट्री फिल्म- “हम बसाना चाहते हैं स्वर्ग धरतीपर” का विमोचन बिहार से आए प्रो.एवंबरिष्ठ साहित्यकार श्री सुधीर सिंह जी नेकिया। aao basaye swarg dharti par ka vimochan

उन्होंने कहा’आओ बसाये स्वर्ग धरती पर* एकविचार,एक संकल्प है जिसके लिएश्रीमती कविता मल्होत्रा और सोनाली सिंघल का धन्यवाद किया.—अपने अपनों से प्यार करें,बात सिर्फ इतनी सी है, aao basaye swarg dharti par ka vimochan




जानिए गौरी लंकेश की हत्या का सच

आँगन में कूकती कोयल सीबेटियों की खनकती हँसी और शीतल छाया देते घने वृक्षों से बुज़ुर्ग इन दो पीढ़ियोंमें एक बात समान है,दोनों ही पीढ़ियाँ अपने पालनपोषण के लिए युवा वर्ग पर आश्रित हैं जो इन दो पीढ़ियों के बीच की मज़बूत कडी है।लेकिन अगर ये युवा पीढ़ी अपने बच्चों पर तो अपना अधिकार जताए लेकिन बुज़ुर्गों केप्रति अपने दायित्वों को नज़रअँदाज़ करे तो तीनों ही पीढ़ियों के परस्पर सामँजस्यका सँतुलन गड़बड़ा जाएगा। aao basaye swarg dharti par ka vimochan

इसी मुद्दे को दर्शातीडॉक्यूमेंट्री का सीता फिल्मज़ के सौजन्य से किया गया भव्य विमोचन कई दिलों कोसकारात्मकता से धड़कने का सबब दे गया। जिसमें जनकपुरी के निगम पार्षद नरेंद्रचावला जी ने भी यही सँदेश दिया कि हमें पर्यावरण को स्वच्छ रखने के लिए पेड़ लगानेचाहिए और उन्हें काटना नहीं चाहिए।मधुरम एन जी ओ से रितु माधुरी के साथ शिवाश्रयवृद्धाश्रम से आए सभी लोगों ने डॉक्यूमेंट्री – ” हम बसाना चाहते हैं स्वर्गधरती पर’का आनँद लिया। कविता मल्होत्रा की लिखीतीन पीढ़ियों के जेनरेशन गैप को खत्म करती डॉक्यूमेंट्री जीवन जीने की कला के एकसकारात्मक पहलू को दर्शाती है। aao basaye swarg dharti par ka vimochan

इस अवसर पर सीता फिल्मज़ की ओर सेपार्टिसिपेशन के सर्टिफ़िकेट और उनकी परफार्मेंस के लिए सभी कलाकारों को ट्राफियाँप्रदान की गईं। aao basaye swarg dharti par ka vimochan

(लाल बिहारी लाल)

गर्मी में चेहरे को धुप में काला होने से बचने का आसान उपाय