मोबाइल से हुई घटना ने इस लड़की की ज़िन्दगी तबाह कर दी





बात 12 मई 2014 की है जब सोनिया पर दो बदमाशो ने एसिड फेक कर हमला किया था। एसिड हमले से खूबसूरत सोनिया बदसूरत हो गयी है किन्तु जीने का हौसला अब भी सोनिया में जीवित है। इस हमले को 3 साल बीत गये पर सोनिया का जखम अभी तक हरा है। acid attack victim sonia story 

सोनिया बताती है कि बात 10 मई की है जब उसका पड़ोसी ने उसके हाथ एक मोबाइल बेचा था। ये मोबाइल चोरी की थी, मुझे नहीं पता था मैंने अनुराग से मोबाइल तो खरीद ली किन्तु इसके लिए कोई पूछताछ नहीं की। अनुराग ने भी मुझे नहीं बताया कि मोबाइल चोरी की है। acid attack victim sonia story 

पति ने पहना साड़ी तो घरवाली हुई बाहरवाली !

अगले ही दिन इस नंबर पर पुलिस का फोन आया तो मैंने बता दिया कि ये फोन मैंने अनुराग से खरीदी है। पुलिस ने अनुराग को धर दबोचा लेकिन बात यही ख़त्म नहीं हुई। मेरी ज़िन्दगी की दशा और दिशा सिर्फ एक फोन से बदल गई। acid attack victim sonia story 

अनुराग जब जेल से छूटा तो उसने अपने दो दोस्तों को मेरे ऊपर एसिड अटैक के लिए कहा जिसे उसके दोस्तों ने मान लिया। मैं उस दिन मार्केट के लिए निकली थी रास्ते में अनुराग के दोस्तों ने मुझ पर एसिड से हमला बोल दिया। जिससे मेरा पूरा चेहरा जल गया और मैं तीन साल तक दुनिया से दूर रही। acid attack victim sonia story 

अनुराग जब जेल से छूटा

इस हमले के बाद भी मैंने जीने की सोची और सबसे पहले एक पार्लर में काम किया लेकिन वहाँ भी लोग मुझ पर ताने मारते रहते थे जिस कारण मैंने काम छोड़ दिया। काम छोड़ने के बाद मैंने खुद की पार्लर खोली है। acid attack victim sonia story 

सोनिया ने अपनी गोद ली हुई बेटी के बारे में बताया कि ये मेरी बहन की बेटी है जिसे मैंने गोद लिया है। सोनिया ने जिस तरह से खुद को संभाला है वो काबिलेतारीफ है। दिल्ली में ऐसे अनेको एसिड पीड़िता है जो बदमाशो की शिकार हुई है। acid attack victim sonia story 

सरकार को उन पीड़िताओं के लिए विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। कानून में भी बदलाव की जरुरत है ताकि दोषियों को सख्त और कड़ी सजा दी जाए। जिससे असमाजिक तत्व के लोग इस तरह की गलतियां करने से डरे।  acid attack victim sonia story 
( प्रवीण कुमार )