पशु टैक्स तो बहाना है असल में गाय को कत्लखाना पहुँचाना है




पंजाब सरकार ने जो नया फरमान जारी किया है। वो बिलकुल मूल राजनीति से भिन्न है। ऐसा पहली बार हुआ है। जब रोड पर दो बार एक पशु दिख जाये तो उसके मालिकों पर जुर्माना देना होगा। क्या ये लोकतंत्र है अथवा लोकतंत्र की हत्या है। इस बारे में देशवासी स्वंय सोचे। animal tax bill 

मालिक को फाइन भी देना पड़ेगा

बता दें अमरिंदर सिंह की सरकार ने पंजाब में एक नया फरमान जारी कर पालतू जानवरों को घर में पालने पर टैक्स देनी की बात की है। सरकार ने पालतू जानवरों पर 250 रुपये से लेकर 500 रुपये तक का टैक्स लगाया है। सरकार के अनुसार पालतू जानवरों जैसे कुत्ता, बिल्ली, गाय, भैंस आदि पर टैक्स देना होगा। पशु टैक्स तो बहाना है असल में गाय को कत्लखाना पहुँचाना है animal tax bill 

खुदा कसम रूम नंबर 224 से मेरा कोई ताल्लुक नहीं है : हार्दिक पटेल

इस मद्देनजर पंजाब सरकार ने योजना बनाकर निगमों को भेजी थी। जिसे अब मंजूरी दे दी गयी है। इस बिल के तहत जानवरों को पालने वालों को लाइसेंस बनवाना अनिवार्य हो गया है। जिसे हर वर्ष रिन्यू करवाना पड़ेगा। यदि कोई मालिक निर्धारित समय से 30 दिनों के भीतर लाइसेंस रीन्यू नहीं करवाता है तो उसे जुर्मना देना पड़ेगा। animal tax bill 

dialysis को रिकवर करने का एक मात्र असरदार नुस्खा

सरकार द्वारा जारी किए गए अधिसूचना में सभी पालतू जानवरों को रजिस्टर्ड कराना अनिवार्य है। जबकि इससे संबंधित यूएलबी व लाइसेंस जारी किए जाएंगे। जिसके बाद म्युनिसिपल कॉरपोरेशन द्वारा टैग जारी किया जाएगा। जिसमें मालिक का नाम और जानवर का रजिस्ट्रेशन नंबर नाम लिखा होगा। इस कानून के तहत यदि जानवरों को दो बार या उससे अधिक सड़क पर घूमते पाया गया तो न केवल जिस्ट्रेशन नंबर कैंसल कर दिया जाएगा बल्कि उसके मालिक को फाइन भी देना पड़ेगा। animal tax bill