बटला हाउस एनकाउंटर मामले में कांग्रेस शामिल congress was involved in batla house encounter





प्रवीण कुमार, batla house encounter
बटला हाउस एनकाउंटर को हुए तक़रीबन आठ साल हो गए किन्तु अब बटला हाउस एनकाउंटर का मामला पुनः उठा है क्योंकि इस एनकाउंटर का संदिग्ध बड़ा साजिद आईएसआईएस के वीडियो में दिखा है। इसकी पुष्टि एनआईए ने की है कि आईएसआईएस के वीडियो में जो शख्स दिख रह है वो बड़ा साजिद बटला हाउस एनकाउंटर का सस्पेक्ट जुनेद ही है। इसी क्रम में बटला हाउस को लेकर कांग्रेस के दिग्गज और वरिष्ठ नेताओं के बीच मतभेद हो गया है। एक और जंहा दिग्विजय सिंह ने अपने दिए गये बयान पर कायम रहते हुए कहा कि मैं पहले भी कह चूका हूँ और पुनः कहता हूँ कि बटला हाउस एनकाउंटर फर्जी था। सरकार से चूक हुई है, जिस कारण बटला हाउस एनकाउंटर हुआ,  इसमें निर्दोष छात्र मारा गया। batla house encounter

दिग्विजय सिंह की हमदर्दी का खंडन करते हुए तत्काल गृहमंत्री शिवराज पाटिल ने कहा कि बटला हाउस एनकाउंटर फर्जी नहीं था। इसके लिए अदालत और राष्ट्रिय जाँच एजेंसी से भी पुष्टि हो गई है। राष्ट्रिय मानवाधिकार आयोग ने भी इस एनकाउंटर को सही बताया है तो इससे स्प्ष्ट होता है कि बटला हाउस एनकाउंटर फर्जी नहीं था। यदि दिग्विजय सिंह इसे फर्जी मानते है तो ये उनकी अपनी राय है। किन्तु मैं उनसे इस सम्बन्ध में एक निवेदन जरूर करना चाहूंगा कि आप इसे साबित करें कि कैसे ये फर्जी एनकाउंटर था कांग्रेस की पुरानी रणनीति है कि कुछ नेता हिन्दू के हित में बयान देता है तो कुछ नेता मुस्लिम हितेषी बयान देता है ताकि हिन्दू-मुस्लिम में द्वन्द बनी रहे और इसका फायदा कांग्रेस पार्टी को मिलती रहे।

एसपी मोहन चन्द्र शर्मा की अस्प्ताल में मृत्यु batla house encounter

आपको बता दें कि 13 सितम्बर 2008 को देश की राजधानी दिल्ली के कई इलाकों में बम विस्फोट हुआ था इस बम विस्फोट में 26 लोगों की मौत हुई थी जबकि 100 से अधिक लोग घायल हुए थे। इस घटना के 6 दिन बाद दिल्ली पुलिस को गुप्त सुचना प्राप्त हुई थी कि बटला हाउस में इंडियन मुजाहदीन के आतंकी छिपा हुआ है। पुलिस ने जानकारी के आधार पर बटला हाउस को 19 सितम्बर को घेर लिया, पुलिस से घिरा देख आतंकियों ने पुलिस पर गोली बरसाना शुरू कर दिया। पुलिस और आतंकी की गोलाबारी में एसपी मोहन चन्द्र शर्मा सहित अन्य दो पुलिस कर्मी गहयल हो गए, घायल हुए एसपी मोहन चन्द्र शर्मा की अस्प्ताल में मृत्यु हो गई। batla house encounter

प्रधानमंत्री बनने के लिए नेहरू ने नेता जी को मृत घोषित किया था

पुलिस ने जबाबी करवाई करते हुए दो आतंकी को मार गिराया और दो आतंकी को गिरफ्तार कर लिया। जबकि आतंकी शहजाद भागने में कामयाब हो गया था। पुलिस के इंट्रोगेशन से मोह्हमद सैफ ने शहजाद के ठिकाने को बताया। सैफ के बताये गए ठिकाने पर छापेमारी कर दिल्ली पुलिस ने शहजाद को गिरफ्तार कर लिया। उस समय शहजाद ने जुनैद का नाम लिया था कि इस घटना में जुनैद नाम का आंतकी भी शामिल था।

किन्तु पुलिस जुनैद को गिरफ्तार नहीं कर सकी और जुनैद को भगौड़ा घोषित कर दिया।बड़ा साजिद को आईएसआईएस के वीडियो में देखा गया तो पुलिस और राष्ट्रिय जाँच एजेंसी को शक हो रहा है कि शायद जुनैद नेपाल के रास्ते पाकिस्तान होकर सीरिया जाने में सफल हो गया है। जबकि कुछ महीने पूर्व बड़ा साजिद के मारे जाने की पुष्टि हुई थी।

अब जबकि बड़ा साजिद का वीडियो वायरल हो चूका है तो कांग्रेस पार्टी के नेताओं में आरोप-प्रत्यारोप चल रहा है। दिग्विजय सिंह के बयान पर बीजेपी के सुब्र्मण्यम स्वामी ने कड़ी प्रतिक्रिया करते हुए कहा कि दिगिवजय सिंह के बयान की राष्ट्रिय जाँच एजेंसी के द्वारा जाँच होनी चाहिए कि क्यों दिग्विजय सिंह राष्ट्रिय जाँच एजेंसी के कार्यो पर आरोप लगा रहे है और क्यों देश की भावना को आहत पहुंचाने की कोशिश कर रहे है। ये भी गौर करने वाली बात है कि कांग्रेस के नेता देश को क्यों भर्मित कर रहे है। batla house encounter