मैं मरते दम तक देश को हिन्दू राष्ट्र नहीं बनने दूंगा : ओवैसी




तीन तलाक को लेकर देश में राजनीति सरगर्मी तेज है। वहीं उच्चतम न्यायालय लगातार इसकी सुनवाई कर रही है। जिसके लिए अलग से बेंच बनाया गया है जिसमें सभी धर्म के लोग शामिल हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार इस कोशिश में हैं कि मुस्लिम महिलाओं को भी उनके मौलिक अधिकार मिले। bharat ko hindu rashtra nahi bnne dunga 

मुस्लिम पर्सनल लॉ

तीन तलाक के मुद्दे को लेकर प्रधानमंत्री ने मुस्लिम संगठनों से आग्रह किया कि किसी भी तरह से इस तरह के कुरितियों का अंत किया जाए। तीन तलाक पर देश में चर्चा जारी है। इसपर कई मुस्लिम संगठन विरोध भी कर रहे हैं वहीं एमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओबैसी ने कहा है कि सरकार का मकसद तीन तलाक खत्म करना नहीं बल्कि देश को हिंदू राष्ट्र घोषित करना है। जिसके लिए ऐसे कदम बढ़ाए जा रहे हैं।bharat ko hindu rashtra nahi bnne dunga 

यह पूरी तरह से मुस्लिम पर्सनल लॉ है जिसे ही इसपर कार्रवाई करने का हक है। पर्सनल लॉ पर यह हस्तक्षेप है। असुद्दीन ओबैसी ने कहा कि यह कोई पहला मुद्दा नहीं है जिसे हिंदू राष्ट्र के लिए कदम बढाया जा रहा है इसके पहले भी दशहरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जय श्री राम के नारे लगाकर दिखा दिया था कि वो भारत में मुस्लमान को देखना नहीं चाहते है। bharat ko hindu rashtra nahi bnne dunga 

समान नागरिक संहिता

मोदी देश के पहले प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने ऐसे किसी जनसभा में धार्मिक नारा लगाया था। भारत के किसी प्रधानमंत्री ने ऐसा नहीं किया। ओवैसी का कहना है कि आप का असली मकसद यह है कि हिंदुस्तान को हिंदू राष्टर में तब्दील करना है जिसे वे नहीं होने देंगे। bharat ko hindu rashtra nahi bnne dunga 

सपा में सब सठिया गया है तभी तो राम मंदिर के लिए 15 करोड़ चंदा दे रहा है : आज़म खान

सरकार किसी भी तरह से समान नागरिक संहिता लागू करना चाहती है जिसमें आपसी सहमति भी नहीं चाहती जिसे हम होने नहीं देंगे। सरकार ने लगातार तीन तलाक को ऐसे उठा रही है जैसे कितनी जटिल समस्या हो। सरकार को ऐसे कानून पर हस्तक्षेप करने की क्या जरूरत है। इसके लिए मुस्लिम पर्सनल लॉ है। प्रधानमंत्री को देश को हिंदू राष्ट्र घोषित करने के लिए ऐसा किया जा रहा है न कि किसी कुरितियों को अंत करने के लिए। वे अपने मकसद में कामयाब नहीं होंगे। bharat ko hindu rashtra nahi bnne dunga