बिहार में पाकिस्तानी झंडा फहराने पर लालू का समर्थन



कश्मीर में बुरहान की मौत के बाद देश में देशद्रोही गतिविधियों सक्रिय हो गई है। वैसे भी वोट बैंकिंग के कारण राजनेता इससे परहेज नहीं करते है। आज कश्मीर में इतना कुछ हो गया, पर विपक्षी नेता ने एक बार भी सेना को शाबासी नहीं दी है। हालात तो ये है कि कुछ मीडियाकर्मी सहित राजनेता इसे राजनीति का अमली जामा पहनाना चाहते है। bihar flown pakistan flag 

मोदी सरकार की पेलट गन vs कांग्रेस सरकार की गुलेल

बुरहान की मौत से आतंकवादी संगठन में हड़कम्प मच गया है। जिस कारण कश्मीर में विद्रोह भी हुआ। 40 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। फिर भी राजनेता और कश्मीरी इस मामले को शांत करने के बजाय हवा दे रहे है। जिस कारण कश्मीर में पाकिस्तान ज़िंदाबाद और पाकिस्तानी झंडे को सलामी दी गई। bihar flown pakistan flag 

कुछ ऐसा ही देश के बिहार राज्य में हुआ। जब बिहार राज्य के नालंदा जिले में एक घर के छत पर पाकिस्तानी झंडा फहराया गया। हालंकि, पुलिस ने सुचना पाते ही इस मामले में एक महिला को गिरफ्तार कर लिया,  पर जरुरी है की ये घटना न हो इसके लिए प्रशासन को सक्रिय होना पड़ेगा। bihar flown pakistan flag 

राजनेताओं को देश से अधिक वोट से प्रेम है

दो दिन पूर्व ही पटना में पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगाए गए थे। इतना कुछ होने के बाबजूद नितीश सरकार मूक दर्शक बनी बैठी है। जबकि देश के चारों ओर नितीश सरकार की आलोचना हो रही है। वही राष्ट्रीय जनता दल के नेता लालू यादव ने कहा कि कश्मीर में पाकिस्तानी झंडा फहराया जाता है तो देश को कोई एतराज नहीं होता है। यदि बिहार में फहराया गया तो आपत्ति क्यों है ?

 उन्होंने कहा कि कश्मीर में बीजेपी की सरकार है तो कश्मीर में पाकिस्तानी झंडा क्यों फहराया जाता है। यदि हिम्मत है तो कश्मीर में रोक के दिखाए। लालू यादव ने आगे कहा कि कहाँ गया 56 इंच का सीना, ऐसा लगता है की ये अब 2 इंच का हो गया है।

यदि बात की जाए ऊना की तो वहां दलित के साथ जो कुछ भी हुआ, इस मामले  में क्या सच्चाई है ?  ये तो रिपोर्ट आने के बाद पता चलेगा, किन्तु हमारे देश के नेता अभी से ऊना में डेरा डाले हुए है। पहले राहुल गांधी ऊना में हमदर्दी लेने पहुंचे, अब केजीरवाल भी पहुंच गए है। bihar flown pakistan flag 

जबकि वहां के लोगों का कहना है कि वीआईपी लोगों के आने से दलित परिवार क्रोधित है। उनका कहना है कि वोट की राजनीति के कारण ये लोग हमारे घर पर आते है। कुछ ऐसा नहीं करते है की ये घटना न घटे। ये नेता ऊना ऊना मामले को जान बूझकर तूल दे रहे है, क्योंकि गुजरात में बीजेपी की सरकार है। वही कश्मीर में भी बीजेपी-पीडीपी की सरकार है। इस एवज में ये विपक्षी नेता भारतीय फ़ौज का हौसला अफजाई ना करके आतंकवादियों को समर्थन दे रहे है।

लालू यादव जैसे राजनेताओं को देश से अधिक वोट से प्रेम है। देश भक्ति शायद बीजेपी के जिम्मे विपक्षियों ने सौंप दिया है। इनकी माने तो ये हर 14 अगस्त को पाकिस्तान दिवस भी मनाए। देश का दुर्भाग्य है कि देश में इस तरह की देशविरोधी गतिविधि सक्रिय है। ऐसे लोकतंत्र में ऊपर वाले का ही सहारा है। bihar flown pakistan flag 

( प्रवीण कुमार )