आतंकियों के खिलाफ सख्त करवाई के पक्ष में बीजेपी





अमरनाथ यात्रियों पर हुए हमले को ले कर केंद्र सरकार सख्त करवाई करने के मूड में दिखाई दे रही है। हमले के बाद बीजेपी नेतृत्व को महसूस हो रहा है की जम्मू-कश्मीर में फ़िलहाल बातचीत की गुंजाइश नहीं है और पार्टी आतंवादियों के खिलाफ सख्त करवाई करने के पक्ष में है।  bjp ki aantankiyo ke khilaaf sakht kaarwayi

अमरनाथ आतंकी हमले के बाद अधिकारी हुए रवाना





पार्टी का मानना है की विपक्षी पार्टी जो बातचीत करने की मांग कर रहे है शायद उन्हें कश्मीर के जमीनी हालात का कोई अंदाजा नहीं है। बीजेपी का मानना है की विपक्ष इस फ़िराक में है की किसी तरह इस मुद्दे से केंद्र की सरकार को घेरा जा सके।
एक छपी रिपोर्ट की मानें तो बीजीपी सूत्रों के मुताबिक ये वक़्त किसी भी हाल में बातचीत का सही नहीं होगा, खास तौर पर अलगाववादियों के साथ। पार्टी का मानना है कि ऐसे वक्त में जब प्रदेश सरकार घुसपैठियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर रही है, NIA, ED और IT जैसी केंद्रीय एजेंसियां हुर्रियत नेताओं की फंडिंग की जांच में जुटी हैं, बातचीत की पहल बैकफायर कर सकती है।