यूपी में बसपा और कांग्रेस का होगा महागठबंधन



देश के सबसे बड़े विधान सभा उत्तर प्रदेश में अगले वर्ष विधान सभा चुनाव होना है। जिस कारण राज्य में राजनीतिक हलचल तेज हो गई है। इसी क्रम में राज्य के दो प्रमुख प्रदेशीय पार्टी सपा और बसपा पार्टी में आतंरिक कलह की बात सामने आई है। जंहा सपा के राजकुमार अखिलेश यादव अपने पिता के फैसले से नाखुश है। वही मायावती अपने दागी नेताओं से इन दिनों संकट में है। bsp congress alliance 

जैसा की ज्ञात है कि मायावती का दाहिना हाथ माने जाना वाला मौर्या ने अभी हाल ही में पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। मौर्या ने यह आरोप लगाया है कि बहन जी बदल गई है। जिस समय वो पार्टी को ज्वाइन किये थे, उस समय पार्टी में समानता थी। पर अब हालात बदल गए है।

पार्टी में भेदभाव होने लगा है। पैसे की लालच में टिकट दिया जा रहा है। जिस कारण मैंने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। मौर्या का कहना है कि वो सत्यवादी है, जंहा सत्य है वहां मौर्या है। बसपा में अब न सत्य रहा और न है काशीराम जी के मार्ग दर्शन रहे। bsp congress alliance 

वही मायावती ने मौर्या के बयानों का खंडन करते हुए कहा था कि बेटे और बेटी को टिकट न दिए जाने से मौर्या ने पार्टी छोड़ी है। इसमें पार्टी की कोई गलती नहीं है। टिकट के लिए जो उम्मीदवार परफेक्ट है उसी को आगामी विधान सभा चुनाव के लिए टिकट दिया जाएगा। bsp congress alliance 

बसपा और कांग्रेस का गठबंधन होना भी लाजमी है bsp congress alliance

बसपा पार्टी में जो राजनीति घटना घट रही है। वो इस बात की पुष्टि करता है कि आगामी विधान सभा चुनाव में बसपा के लिए चुनाव जीतना आसान काम नहीं होगा। सूत्रों से ये भी पता चला है कि बसपा के 20 विधायक भी पार्टी छोड़ने को तैयार है। ये सब मौर्या के समर्थन में है। यदि ये विधायक पार्टी से अलग होते है तो बसपा के लिए मुश्किलें और बढ़ जाएगी। bsp congress alliance 

कश्मीर पर भारत अपना हक़ छोड़ दें, कश्मीर पाकिस्तान का है : केजरीवाल

कुछ ऐसा ही हाल राज्य में कांग्रेस पार्टी की है। एक और जंहा देश कांग्रेस मुक्त भारत की ओर बढ़ रहा है। वही कांग्रेस अपनी डूबती नैया को बचाने की कोशिश में है। कांग्रेस पार्टी अपनी नैया को पार लगाने के लिए सभी पैतरे अपना रही है। bsp congress alliance 

पहले तो पार्टी राहुल गांधी को मुख्यमंत्री प्रत्याशी के रूप में उतारना चाहती थी, लेकिन राहुल के इंकार करने के बाद पार्टी प्रियंका गांधी के नेतृत्व में चुनाव लड़ने की तयारी कर रही है। हालांकि, प्रियंका गांधी के नाम की औपचारिक पुष्टि नहीं की गई है। फिर भी खबर है कि इस बार प्रियंका गांधी ही मुख्यमंत्री प्रत्याशी होंगी। bsp congress alliance 

मोदी और योगी लहर से सभी विपक्षी पार्टी दबाब में है bsp congress alliance 

वही बीजेपी के बढ़ते जनादेश को देखते हुए विशेषज्ञों का मानना है की बिहार की तरह यूपी में भी महागठबंधन के आसार है। क्योंकि बसपा और कांग्रेस के हालिया प्रदर्शन को देखते हुए ऐसा प्रतीत होता है कि दोनों पार्टी गठबंधन की फ़िराक में है। बसपा और कांग्रेस का गठबंधन होना भी लाजमी है। दोनों पार्टी की स्थिति राज्य में बदतर है। ऐसे में न मायावती के पास अधिक विक्लप है, और न ही कांग्रेस के पास कोई विकल्प है। bsp congress alliance 

हालांकि, ये तो समय ही बताएगा की राज्य में कांग्रेस और बसपा एक साथ चुनाव लड़ेगी अथवा चुनाव के बाद एक साथ हो सरकार बनाने की कोशिश करेगी। लेकिन वर्तमान में जो राजनीतिक परपेक्ष्य है। उससे ये बात तो सार्वजानिक हो जाता है कि राज्य में मोदी और योगी लहर से सभी विपक्षी पार्टी दबाब में है।