एनएसजी मामले में मोदी के सामने झुका चीन





विदेश मंत्रालय ने विज्ञप्ति जारी कर कहा है की पीएम नरेंद्र मोदी 23 जून को उज़्बेकिस्तान का दौरा करेंगे। जंहा पीएम उज़्बेकिस्तान के राजनयिक सलाहकारों और राजनेताओं से सभी पक्षों पर बात करेंगे। चीन के राष्ट्रपति फ़िलहाल उज़्बेकिस्तान में है जंहा 6 देशों से बनी शंघाई कोऑपरेशन संगठन का सम्मेलन हो रहा है। जिसमें प्रतिभागी देश चीन, रूस, उज़्बेकिस्तान, तजाकिस्तान और कजाखस्तान है। इस संगठन की स्थापना 2001में की गई थी। china will support india 

पीएम मोदी २३ जून को चीनी राष्ट्रपति जी जिनपिंग से भी मुलाकात करेंगे। ऐसी सम्भावना है की इस वार्ता में मोदी चीन को मनाने में कामयाब हो जायेंगे। चीन लगातार एनएसजी में भारत की सदस्य्ता का विरोध करता रहा है। चीन का कहना है की भारत ने अभी तक परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं किया है। जिससे एशिया महादेश में अशांति पैदा होने का खतरा है। इसलिए चीन भारत का विरोध कर रहा है। china will support india 

हालंकि, अमेरिका के बढ़ते दबाब के कारण एनएसजी समूह के 48 देशों में से 29 देशों ने भारत के समर्थन पर मुहर लगा दी है। वही एशिया प्रान्त के देश भारत के विरोध में है। पाकिस्तान भी चीन के दम अपनी दावेदारी और भारत के वरोध करने के लिए अन्य देशों को मनाने की कोशिश में लगा है। china will support india 

भारत के समर्थन के लिए दरवाजे खुले है  china will support india 

हालंकि, मोदी की जी जिनपिंग से होने वाली वार्ता की पुष्टि के बाद चीन विदेश मंत्रालय ने नरम रुख अपनाते हुए कहा की भारत के समर्थन के लिए दरवाजे खुले है। यदि एनएसजी समूह किसी ऐसे देश को सदस्य बनाता है जिसने अभी तक परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं किया है तो चीन को कोई एतराज नहीं है। किन्तु भविष्य में ऐसे अन्य देशों को भी मौका मिलना चाहिए ताकि समूह में संतुलन बना रहे। china will support india 

मोहनजोदड़ो का ट्रेलर हुआ रिलीज़

चीन की यह प्रतिक्रिया उस समय आया है जब सियोल में बैठक होना है। 24 जून को सियोल में बैठक है जंहा भारत की सदस्य्ता को लेकर सभी देशों के बीच वार्ता होगी और उम्मीद है की सभी देश भारत के समर्थन के लिए राजी हो जाएंगे। इसका मुख्य कारण अमेरिका का समर्थन है। अमेरिका ने सभी देशों से आग्रह किया है की एनएसजी में भारत को सदस्य बनाया जाये और इसके लिए सभी देश भारत का समर्थन करें। china will support india