तमिलनाडु के पूर्व सीएम एम करुणानिधि का अंतिम संस्कार




तमिलनाडु के पूर्व सीएम एम करुणानिधि का अंतिम संस्कार मरीना बीच पर ही किया जाएगा। मद्रास हाई कोर्ट ने राज्य सरकार के विरोध को खारिज करते हुए करुणानिधि की अंत्येष्टि मरीना बीच पर करने की इजाजत दे दी। हालांकि कइयों के जेहन में सवाल है कि एक हिंदू नेता होने के बावजूद करुणानिधि को दफन क्यों किया जा रहा है दरअसल इसके पीछे वजह है उनका द्रविड़ आंदोलन से जुड़े होना। CM M Karunanidhi Funeral 

उन्हें श्रद्धाजंलि देने वाले लोगों का सैलाब उमड़ पड़ा है। CM M Karunanidhi Funeral 

द्रविड़ आंदोलन से जुड़े ज्यादातर नेताओं को दफनाया गया था। चाहें वह पेरियार हों, डीएमके के संस्थापक सीएन अन्नादुरई, एमजी रामचंद्रन या फिर जयललिता, इन्हें मरीना बीच में जगह मिली। इसलिए करुणानिधि को भी दफनाया जाना द्रविड़ आंदोलन से जोड़कर देखा जा रहा है।  दरअसल द्रविड़ आंदोलन मुख्य रूप से ब्राह्मणवाद और हिंदी भाषा के विरोध से उभरा था। CM M Karunanidhi Funeral 

इस वजह से ही द्रविड़ों के प्रति संवेदना रखने वाले राजनेताओं के निधन के बाद उन्हें ब्राह्मणवाद और हिंदू परंपरा के विरुद्ध दफनाया गया। यह परंपरा तमिलनाडु में बाह्मणवादी परंपरा के विरुद्ध लंबे समय से चली आ रही है। करुणानिधि उनके राजनीतिक गुरु सीएन अन्‍नादुरई के बगल में दफनाया जायेगा । उन्हें श्रद्धाजंलि देने वाले लोगों का सैलाब उमड़ पड़ा है। CM M Karunanidhi Funeral 




करुणानिधि को श्रद्धाजंलि देने के लिए राजाजी हॉल के आसपास हजारों की संख्या में करुणानिधि के समर्थक जुटे हुए हैं। समर्थक लगातार अपने नेता के लिए नारे लगा रहे हैं। सुपरस्टार रजनीकांत समेत कई नेता पहुंचे श्रद्धांजलि देने। वित्तमंत्री चिदंबरम बुधवार सुबह उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचे।  बता दे की देश के प्रधानमंत्री  नरेंद्र  मोदी भी श्रद्धांजलि देने पहुंचे।  करुणानिधि निधन के बाद राज्य में शोक की लहर है। इस सबके बीच एक बेटा अपने पिता से बिछड़ने का गम झेल रहा है। CM M Karunanidhi Funeral 

पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन ने आखिरकार एक नेता और कार्यकर्ता की भूमिका से आगे बढ़ते हुए एक बेटे के नाते दिवंगत कलाईनार से उन्हें ‘अप्पा’ कहने की इजाजत मांगते हुए बेहद मार्मिक खत लिखा। बता दे की कुछ समय से करुणानिधि बीमार चल रहे थे , करुणानिधि का मंगलवार को चेन्नै के कावेरी अस्पताल में निधन हो गया था उसके बाद उनके पार्थिव शरीर को चेन्नै के राजाजी हॉल में रखा गया था जहाँ  उन्हें श्रद्धाजंलि देने वाले लोगों का सैलाब उमड़ पड़ा था। CM M Karunanidhi Funeral 

लवरात्री के रंगीन ट्रेलर को मिल रहा है दर्शकों से प्यार

पुलिस द्वारा राजाजी हॉल के एंट्रेंस को ब्लॉक करने के बाद दीवार फांदकर अंदर घुसने की कोशिश करते लोग। भीड़ बेकाबू होता देख पुलिस ने हॉल का एंट्रेस ब्लॉक कर दिया था।करुणानिधि की आत्मकथा और उन्हें करीब से जानने वाले लोग से उनके बारे में कई दिलचस्प जानकारियां मिली हैं। करुणानिधि ने महज 14 साल की उम्र में जस्टिस पार्टी जॉइन की थी। इसके बाद तमिल राजनीति के शिखर पर पहुंचने तक उन्होंने पीछे मुडकर नहीं देखा। CM M Karunanidhi Funeral 

बरसात के मौसम में होने वाली बिमारियों का रामबाण नुस्खा






Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.