कांग्रेस गद्दारों और धोखेबाजों की पार्टी है : नितीश कुमार

 




बिहार में महागठबंधन में दरारें अब साफ तौर पर दिखने लगी हैं। जदयू अध्यक्ष ने साफ तौर पर कह दिया है कि उन्हें कांग्रेस से कुछ सीखने की जरूरत नहीं है। जबकि बिहार में कांग्रेस उनके साथ गठबंधन में है। बिहार के मुख्यमंत्री व जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार ने कहा है कि पटना में हो रही 27 अगस्त की विपक्षी दलों की रैली से जदयू का कोई लेना देना नहीं है। नीतीश कुमार ने कहा है कि राजद की तरफ से आयोजित इस रैली में जदयू शामिल नहीं होगा लेकिन राजद अपनी तरफ से न्योता देता हो तो रैली में शामिल होंगे। congress hmen rajniti n sikhayen




congress hmen rajniti n sikhayen  मैं प्रधानमंत्री का सपना नहीं देखता

गौरतलब है कि इस रैली का नारा है बीजेपी हटाओ, देश बचाओ। नीतीश कुमार कुछ ऐसा भी नहीं कर रहे हैं जिससे कि केंद्र की सरकार उनपर हमले करे। नीतीश कुमार बड़ी चालाकी से जहां अपने गठबंधन में शामिल दलों पर धौंस भी जमाए हुए हैं वहीं दूसरी तरफ भाजपा से भी संबंध अच्छे करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं।नीतीश कुमार को पता है कि भविष्य में जिस तरह से भाजपा मजबूत होते जा रही है। विपक्ष के लिए रास्ता आसान नहीं है इसलिए अपने रास्ते बना कर रखो। हालांकि विपक्ष में और उनके महागठबंधन में शामिल कांग्रेस उन्हें आड़े हाथों भी लिया है और कहा है कि वे दोहरा नीति अपना रहे हैं। नीतीश कुमार के पास भी इसका जवाब देते हुए कहा है कि कांग्रेस से कुछ सीखने की जरूरत नहीं है जो खुद पहले गांधी को छोड़ा फिर नेहरू को भी त्याग किया। congress hmen rajniti n sikhayen 

हे भगवान् देश के मुर्ख पीएम, मोदी को सद्बुद्धि दें : दिग्विजय सिंह

कहा जाता है कि राजनीति में महत्वाकांक्षाएं प्रबल होती हैं। नीतीश कुमार भी प्रधानमंत्री के लिए अपने दावे गाहे बगाहे अप्रत्यक्ष रूप से ठोकते रहे हैं। नीतीश कुमार ने साफ तौर पर कहा कि जहां 272 का आंकड़ा चाहिए वहां 18-20 सासंदों को लेकर मैं प्रधानमंत्री का सपना नहीं देखता। लेकिन जिस प्रकार से अभी तक की उनकी राजनीति चली है इससे तो यही लग रहा है कि नीतीश कुमार 2019 में प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवारी के लिए तैयार हैं और इसके लिए विपक्ष पर दवाब बना रहे हैं। congress hmen rajniti n sikhayen

loading…