पीएम मोदी ईमानदार, कर्मठ और मेहनती राजनेता है : कोर्ट




SC ने सहारा-बिड़ला डायरी मामले में जांच कराने की मांग वाली एक याचिका को बुधवार को खारिज कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने वकील प्रशांत भूषण द्वारा दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए याचिकाकर्ता की जांच की मांग ठुकरा दी। कोर्ट ने कहा कि इस मामले में पीएम मोदी और अन्य के खिलाफ जांच कराने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं। court declined petition 

राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाए थे

सुप्रीम कोर्ट ने याचिका को मेरिट के लायक ही नहीं समझा और कहा कि भूषण द्वारा पेश किए गए दस्तावेज जांच के लिए पर्याप्त नहीं है। गौरतलब है कि इनकम टैक्स की एक रेड में सहारा के ऑफिस से एक डायरी मिली थी, जिसमे कथित रूप से यह लिखा है की 2003 में गुजरात के मुख्यमंत्री को 25 करोड़ रुपये घूस दी गई। court declined petition 

नरेंद्र मोदी ही देश के अगले प्रधानमंत्री होंगे : नितीश कुमार

उस समय नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे। इनके अलावा तीन और मुख्यमंत्रियों को भी कथित घूस दी गई। बता दें कि इस डायरी के बिना पर ही कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाए थे। court declined petition 

दरअसल, SC ने इन कागजात को शून्य बताते हुए याचिकाकर्ता संगठन को पुख्ता सबूत पेश करने के लिए कहा था। याचिकाकर्ता संगठन सीपीआईएल ने कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर कहा है कि IT की अप्रैजल रिपोर्ट, डायरी और ई-मेल साफ-साफ इशारे करती है कि राजनेताओं को रिश्वत दी गई थी, लिहाजा SC को जांच का आदेश देना चाहिए। हलफनामे में यह भी कहा गया है कि यह विरले ही होता है जब अदालत या जांच एजेंसी के सामने ऐसे पुख्ता दस्तावेज पेश किए गए हों। ऐसे में अगर इस मामले में जांच का आदेश नहीं दिया जाता तो कोर्ट द्वारा किसी भी मामले में जांच का आदेश देना न्यायसंगत नहीं होगा। court declined petition