दिल्ली में फिर से होगा विधान सभा चुनाव



आख़िरकार झूठ और प्रपंच फैला कर सत्ता हथियाने वाले केजरीवाल के लिए अब और ज्यादा दिनों तक खुशियां मनाने का वक्त नहीं रहा क्योंकि बड़े-बुजुर्ग कहते है कि झूट का पांव नहीं होता और वो आज न कल समाज के सामने औंधे मुंह गिर ही पड़ता है। delhi election will held soon

ठीक ऐसा ही कुछ अब केजरीवाल सरकार के साथ होने वाला है जो दिल्ली में सबकुछ फ्री करवाने के नाम पर जनता से वोट लेकर सत्ता को हथिया लिया परन्तु फ्री करने की बात तो दूर जनता के मेहनत की कमाई से जमा की गयी टैक्स के पैसों से जो सरकारी खजाना भरा हुआ था delhi election will held soon

उसमें तरह-तरह से सेंध लगाकर आम आदमी पार्टी के मुखिया केजरीवाल सहित तमाम विधायकों व उनके आस-पास घूमने वाले सिपह सलाहरों को कोई न कोई सरकारी पद पर बिठाकर सरकारी खजानों को लूटने का काम करते रहे है जैसे एक विधायक को पहले ३० हजार वेतन मिला करता था delhi election will held soon

जिसे केजरीवाल ने टी डी ए सहित लगभग ढाई लाख कर दिया इतने से इनका पेट नहीं भरा तो अपने २१ विधायकों को मंत्री का दर्जा दिलाकर संसदीय सचिव पद के बहाने सरकारी खजाने की लूट खसोट करते रहे लेकिन कहते है न सौ सोनार का एक लोहार का  केजरीवाल ने भी ठीक वैसे ही बार-बार केंद्र सरकार पर झूटे हमला और आरोप लगाते रहे

लेकिन सच्चाई रूपी शासक का प्रतिनिधित्व करने वाले मोदी सरकार ने एक ही वार से इनके द्वारा किये जा रहे सरकारी खजानों की लूट को रोकने के लिए सवैंधानिक तरीकों से इनके 21 विधायकों पर करवाई शुरू कर दी गई जिनकी सदस्य्ता जल्द ही खत्म हो जाएगी और दिल्ली में पुनः विधानसभा चुनाव होगी। delhi election will held soon 

ज्ञात रहे की अगर ऐसा हुआ तो केजीरवाल के निकम्मेपन के कारण दिल्ली में 3 साल में 3 बार विधान सभा का चुनाव होने का रिकॉर्ड बन जाएगा।

दिल्ली में 3 साल में 3 बार विधान सभा का चुनाव delhi election will held soon 

 वो दिन भी महज 16 महीने में आ गया है कि आप पार्टी के 21 विधायक के ऊपर निलंबन की तलवार लटकी हुई है और यदि इन विधायकों का निलम्बन होता है तो दिल्ली में जल्द उप चुनाव होगा, ऐसे में केजरीवाल की सरदर्दी बढ़ गई है। केजरीवाल का गिरगिट रूप महज एक वर्ष में जनता के सामने सार्वजानिक हो गया है।

विश्वास पंजाब के मुख्यमंत्री :केजरीवाल

आपको बता दें की केजरीवाल ने मनमाने ढंग से राज्य में सभी  क्षेत्रों में जैसे स्कूल, अस्प्ताल, बिजली, सड़क आदि के कार्य हेतु विभागों की जिम्मेवारी आप के 21 विधायकों को दे दिया था और इसके लिए केजरीवाल सरकार ने राष्ट्रपति के समक्ष इस विधयेक को पास करने के लिए भेजा था जिसे राष्ट्रपति ने इसे ठुकरा दिया है क्योंकि ये विधयेक ऑफिस ऑफ़ प्रॉफिट के श्रेणी में अाता है

जबकि केजरीवाल ने अपने विधयेक में लिखा है की वो इसके लिए कोई भत्ता, राजस्व अथवा वेतन विधायक को नहीं देते है किन्तु केंद्र सरकार इस विभागों के लिए दिल्ली सरकार को राजस्व देती है। इसी मद्देनजर राष्ट्रपति ने इस विधयेक को बिना पास किये लौटा दिया है

इससे पहले उप राजयपाल ने भी केजरीवाल सरकार के इस विधयेक को लौटा दिया था जिसके बाद केजरीवाल सरकार ने इसे राष्ट्रपति के समक्ष पास हेतु प्रस्तुत किया था। अब जबकि राष्ट्रपति ने भी इसे नहीं स्वीकारा है तो केजीरवाल राष्ट्रपति के इस कार्य के लिए मोदी सरकार को निशाना बना रहे है। केजरीवाल ने आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी जान बूझकर हमें काम नहीं करने देते है, हमारे काम अडंगा लगाते है, इनसे हमारी तरक्की देखी नहीं जा रही है। delhi election will held soon 

केजीरवाल का मोदी पर आरोप लगाना बेबुनियाद है

केजीरवाल का मोदी पर आरोप लगाना बेबुनियाद है केजरीवाल अपने ही खोदे गढ्ढे में गिर जाता है और बचने के मोदी जी का सहारा लेता है। केजरीवाल ने जो भी कहा है वो असत्य है यदि आप को दिल्ली की जनता की इतनी परवाह होती तो शायद केजीरवाल सरकार इतने घोटाले नहीं करते और न ही अपने वेतन को २ लाख करते।

केजरीवाल की बातो में कोई सच्चाई नहीं दिखती है जो विधायक दिन में सड़क पर नहीं दीखते वो भला रात में कैसे 2 बजे अस्प्ताल की इंस्पेक्शन के लिए जाते है, मनीष सिसोदिया रेड करते है या फिर चंदा उगाही के लिए जाते है ये तो केजीरवाल को पता ही होगा। वही प्रवीण देशमुख सुबह वाकिंग के बहाने स्कूल के चार दीवारों से गुजर लेते है और अब इसे केजीरवाल राज्य की सेवा संज्ञा बता रहे है।

ये सब केजरीवाल अपने विधायकों के फायदे के लिए किया था ताकि किसी अतिरिक्त बेरोजगार को जॉब न मिले जंहा राज्य में बेरोजगारी बढ़ रही है वही आप के नेता सभी काम खुद करना चाहती है ताकि तिजोरी का सारा माल गटक जाये।delhi election will held soon

राष्ट्रपति ने शायद इसी कारण केजीरवाल के इस विधयेक को पास नहीं किया जो उचित है पर केजरीवाल अब चोरी और सीना जारी के तहत मोदी पर आरोप लगाकर खुद को निर्दोष साबित करना चाहते है। delhi election will held soon