MCD चुनाव से राजनैतिक सीख




पांच राज्यों के विधान सभा चुनाव के बाद देश की राजधानी दिल्ली में नगर निकाय का चुनाव कल सम्पन्न हो गया। चुनाव सम्पन्न होने के बाद जो एग्जिट पोल आया है। उस पोल में कांग्रेस और आप का सूपड़ा साफ़ होता दिख रहा है। मोदी लहर अब भी जारी है। हालांकि, मतगणना 26 अप्रैल की है लेकिन जो एग्जिट पोल आया है, उसमें मामूली फेर बदल हो सकता है। ऐसे में ये स्पष्ट है कि बीजेपी एक बार फिर दिल्ली नगर निकाय का चुनाव जीत रही है। delhi mcd election results 2017

दिल्ली भी केरजीवाल मुक्त हो जाएगा

विचारणीय तथ्य ये है कि आखिर कौन, कब और कैसे पीएम मोदी के विजय रथ को रोक पाएगा ? MCD चुनाव से सभी पार्टियों को राजनैतिक सीख मिली है कि वो अपने गिरेबान में झांके। जो वादे और इरादे को लेकर कांग्रेस ने दिल्ली में शासन किया, और अब केजरीवाल की सरकार है। क्या वो अपने वादों पर खरे उतरे है ? यदि उतरे तो क्यों दिल्ली की जनता ने उन्हें ठुकराया है। कांग्रेस और आप के लिए अब सोचने का समय आ गया है। खासकर, केजरीवाल को दिल्ली नगर निकाय के चुनाव के बाद अधिक आत्म मंथन करने की जरुरत है। delhi mcd election results 2017

यदि केजरीवाल के राजनैतिक कॅरियर पर ध्यान दिया जाये तो जिस तेज़ी से उन्होंने कामयाबी हासिल की। उसी तेज़ी से वो अब आम आदमी भी बन बैठे है। आखिर क्या वजह रही जो आप MCD चुनाव में फिसड्डी हो गयी। परिपेक्ष तो यही दर्शाता है कि केजरीवाल पीएम की कुर्सी के लोभ में सीएम की कुर्सी भी गँवा बैठे। delhi mcd election results 2017

दिल्ली में भाजपा की जीत के लिए मनोज तिवारी ने किया यज्ञ और हवन

शायद इसका कारण केजरीवाल के बड़बोलेपन और झूठे वादे हो सकते है। जिसे दिल्ली की जनता महज 2 साल में जान गयी है। अब देखना ये है कि क्या केजरवाल हर बार की तरह फिर से अपने गुनाहों के लिए दिल्ली की जनता से माफ़ी मांगेगे, या फिर राजनैतिक जीवन से सन्यास लेंगे। यदि माफ़ी मांगते है तो क्या दिल्ली की जनता उन्हें माफ़ करेगी ? ये भी एक विचारणीय तथ्य है। मोदी लहर जिस तरह से देश में बह रही है ऐसे में भारत कांग्रेस मुक्त तो हो चूका है। आने वाले समय में दिल्ली भी केरजीवाल मुक्त हो जाएगा। मोदी लहर से कांग्रेस और आप दोनों पार्टियों को गंभीरता से सोचना होगा। ताकि दिल्ली में फिर से मोदी जी को कड़ी टक्कर दिया जा सके। यदि समय रहते आप और कांग्रेस नहीं सम्भली तो वो दिन दूर नहीं जब वो विपक्ष की भूमिका भी नहीं निभा पाएंगे।  delhi mcd election results 2017
( प्रवीण कुमार )