देश को सोनिया गाँधी से अधिक पीएम मोदी की जरुरत है : नीतीश कुमार




बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार दूर की राजनीति में विश्वास रखते हैं। एक बार फिर उन्होंने इसको साबित किया है जब सोनिया गांधी के लंच में उपस्थित तो नहीं हुए लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा दिए गए लंच में शामिल होने को लेकर हामी भर दी। सोनिया गांधी के द्वारा विपक्षी एकता बनाए रखने के लिए दिए गए लंच में नीतीश कुमार नहीं आए लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए लंच में शामिल होने की हामी भर दी है। desh ko pm modi ki jarurat hai

नीतीश कुमार भाजपा से संबंध सुधारने में लगे हैं

जिससे ऐसी अटकलें लगाई जाने लगी है कि उनका मन अब भी भाजपा की ओर ही लगा है। गौरतलब है कि नीतीश कुमार जब समता पार्टी बनाया था उस समय भाजपा के साथ कोई भी पार्टियां सांप्रदायिक का आरोप लगाकर नहीं आ रही थी तो नीतीश कुमार आए थे। लेकिन अब उनका गठबंधन कांग्रेस और राजद से है, लेकिन गाहे बगाहे जिस तरह से उनका दिल नरेंद्र मोदी से बार बार जुड़ जा रहा है इससे तो यही लग रहा है कि वे कभी भी एनडीए गठबंधन में जा सकते हैं। desh ko pm modi ki jarurat hai

हालांकि प्रधानमंत्री ने जो अभी लंच दिया है वह पार्टियों के बीच न होकर मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ के सम्मान में दिया गया है। इसी में नीतीश कुमार शामिल हो रहे हैं. प्रविंद जगन्नाथ का यह पहला विदेशी दौरा है। मॉरीशस प्रधानमंत्री का संबंध बिहार से रहा है जहां उनके पूर्वज रहते थे इनके पिता बिहार में जाकर पूर्वज का घर भी देखा था। desh ko pm modi ki jarurat hai

नीतीश कुमार

नीतीश कुमार इसीलिए सम्मान में आ रहे हैं। लेकिन नीतीश कुमार ने जिस तरह से सोनिया गांधी के द्वारा राष्ट्रपति चुनाव को लेकर रणनीति बनाने के लिए लंच दिया था जिसमें नहीं आए और सफाई दी है कि उनकी पार्टी से शरद यादव शामिल हुए थे। मैं सोनिया गांधी से अप्रैल में ही मिल चुका था। desh ko pm modi ki jarurat hai

दलितों और मुसलमानो की रक्षा के लिए मैं अपनी जान दे सकता हूँ : राहुल गाँधी

यह तो स्पष्ट हो गया है कि नीतीश कुमार जिस तरह से राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के परिवार पर संपत्ति के मामले में आरोप लगे हैं उसके बाद किनारा करना शुरू कर दिया है। हालांकि नीतीश कुमार को पता है कि अगर गठबंधन से अलग होते हैं तो राजद कांग्रेस के साथ मिलकर जदयू को भी तोड़कर बिहार में सत्ता हासिल कर सकती है। इसलिए नीतीश कुमार सधे हुए राजनेता की तरह भाजपा से भी अपने संबंध सुधारने में लगे हैं तो यूपीए में अपने आपको बना कर रखा है। desh ko pm modi ki jarurat hai