देशद्रोहियों को जूते मारकर पाकिस्तान भेज देना चाहिए : अरनब गोस्वामी




डीयू के रामजस कॉलेज में हिंसक झड़प के बाद उठा विवाद और गहराता जा रहा है। जैसा आपको पता है रामजस कॉलेज में हिंसक झड़प के बाद देश दो खेमे में बंट गया है। पिछले दिनों देश के राष्ट्रपति डॉ. प्रणव मुखर्जी ने भी युवाओं को सन्देश देते हुआ कहा था कि अपनी बातों को रखना जायज है। लेकिन अपनी अभिव्यक्ति की आजादी को हिंसक रूप देना गलत है। जरुरी है कि मामले पर विश्वविद्यालय में डिबेट किया जाये। deshdrohiyon ko markar bhagana chahiye

देशभक्ति के लिए मैं आरएसएस कार्यकर्ता हूँ

अब देश विरोधी मामले में प्रसिद्ध पत्रकार अर्नब गोस्वामी भी कूद पड़े है। उन्होंने कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी का अभिप्राय देश के खिलाफ जाना नहीं है। अभिव्यक्ति की आजादी का अभिप्राय अपनी बातों को सविंधान के निर्देशानुसार रखना है। कुछ लोग लोकप्रियता पाने के लिए देश के खिलाफ चले जाते है। यदि वो देश के खिलाफ जा सकते है। तो हम जैसे पढ़े लिखे लोग देश भक्त क्यों नहीं हो सकते है। यदि कोई देश भक्ति के बारे में मुझसे जानना चाहता है तो मैं साफ-साफ कहता हूँ। देशभक्ति के लिए मैं आरएसएस कार्यकर्ता हूँ ।  deshdrohiyon ko markar bhagana chahiye

गोस्वामी ने कहा उड़ी हमले के समय ये आजदी मांगने वाले कहाँ दुबक गए थे। जब पाकिस्तान ने 18 भारतीय सैनिकों की निर्मम हत्या कर दी थी। उस समय देश द्रोहियों को सांप सूंघ गया था। लेकिन जब तमिलनाडु में जल्लीकट्टू की बात आयी। तो फिर से ये देशद्रोही बिल से बाहर आ गए। ये मांग नहीं, मौका तलाश रहे है। जब भी देशद्रोहियों को मौका मिलता है। देश के खिलाफ नारेबाजी करते है।  deshdrohiyon ko markar bhagana chahiye

मोदी कोई जादूगर नहीं है जो मिनटों में भारत को अमेरिका बना देंगे : नाना पाटेकर

उन्होंने कहा कि देशविरोधी नारे लगाने के लिए ये लाठी खाने को तैयार है। लेकिन जब राष्ट्रगान के लिए खड़ा होने पड़े तो ये उनका विरोध करते है। मैं हमेशा राष्ट्रगान के समय खड़ा होऊंगा और भारतीय सेना और भारतियों के हित में बोलूंगा। जब चंद लोग देश की गरिमा को गिराने की कोशिश करते है तो क्यों नहीं, हम भारतीय इनका मुहतोड़ जबाब देंगे।  deshdrohiyon ko markar bhagana chahiye
( प्रवीण कुमार )