घर में रखोगे ये भगवान तो कभी नहीं बनोगे धनवान




हिन्दू धर्म में मूर्ति पूजा का विशेष महत्व है। हर घर में पूजा घर बनाया जाता है और इस पूजा घर में भगवान की मूर्ति जरूर स्थापित की जाती है। वेदों, पुराणों एवं शास्त्रों में वर्णित है कि घर में भगवान की मूर्ति अवश्य रखनी चाहिए। हालांकि, आधुनिक समय में लोग शास्त्र का कम और बाह्य आडम्बर का विशेष ध्यान रखते है जिस कारण कोई न कोई गलती हो जाती है। जिससे घर की आर्थिक स्थिति कमजोर हो जाती है। ek click aur bne dhanvaan 

इस सबके लिए जरुरी है कि आप विधिवत जान लें कि घर में वास्तु दोष तो नहीं है। घर में वास्तु के अनुसार नकारात्मक और सकरात्मक प्रभाव पड़ता है। यदि वास्तु दोष है तो आपके घर में उन्नति नहीं होगी। इसके अलावा भी यदि वास्तु दोष नहीं है और पूजा घर में भगवान को गलत जगह पर स्थापित किये है तो इससे भी घर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। ek click aur bne dhanvaan 

आज हम इसी सम्बन्ध में आपको बताने जा रहे है कि घर में किस-किस भगवान की मूर्ति रखनी चाहिए। हालांकि, हिन्दू धर्म में 33 करोड़ देवी और देवता है किन्तु लोग अपने स्वार्थानुसार गिने-चुने की ही पूजा कर पाते है। वास्तु के अनुसार घर के उत्तर-पूर्व कोने में पूजा घर होना चाहिए। घर के मंदिर से वास्तु दोष दूर करने के लिए ये जान लेना जरुरी है की घर में किस भगवान की मूर्ति या तस्वीर रखना शुभ होता है। ek click aur bne dhanvaan 

निम्न भगवान की मूर्ति घर में नहीं रखनी चाहिए

भगवान् श्री शनि देव न्याय के देवता है अतः इनकी पूजा मंदिरों में किया जाना शुभ होता है। घर में शनि भगवान की मूर्ति अथवा तस्वीर नहीं रखनी चाहिए। भगवान शिव जी की नटराज मूर्ति घर में नहीं रखना चाहिए। धार्मिक शास्त्रों में कहा गया है कि नटराज शिवजी के विध्वंसक रूप को दर्शाती है। अतः घर में शिवजी की नटराज की मूर्ति घर में नहीं होनी चाहिए। ek click aur bne dhanvaan 

हाथो की रेखा से जानिए कब होगी आपकी शादी !

देवी माँ लक्ष्मी के खड़ी अवस्था की मूर्ति घर में नहीं रखनी चाहिए। हो सके तो गणेश जी, माँ सरस्वती और माँ ल्सख्मी के बैठे हुए स्वरूप की मूर्ति रखनी चाहिए। माँ काली की मूर्ति अथवा तस्वीर घर में नहीं होनी चाहिए। माँ काली भी शिवजी की नटराज रूप की तरह विध्वंसक रूप है। अतः माँ काली की मूर्ति घर में न रखें। ek click aur bne dhanvaan 

भगवान् भैरव देव की मूर्ति घर में नहीं रखनी चाहिए क्योंकि भगवान् भैरव शिव जी का प्रतीक है। जिनकी पूजा तंत्र-मन्त्र से होती है। अतः घर में भगवान भैरव की भी मूर्ति नहीं रखनी चाहिए। ek click aur bne dhanvaan