मिलिए भारतीय टीम के टीचर्स से





भारतीय क्रिकेट टीम को रवि शास्त्री के रूप में नया कोच मिल गया है। जो अब 2019 के विश्व कप तक बने रहेंगे।कप्तान विराट कोहली के पसंद और अपने समय के ग्लैमरस खिलाड़ी व जमे हुए कमेंटेटर रवि शास्त्री को क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने कोच नियुक्त कर दिया है। जिसके लिए कई वरिष्ठ खिलाड़ियों का साक्षात्कार लिया गया। ex team india coachs

विराट कोहली चाहते है मनपसंद कोच





क्रिकेट में पहले कोच रखने की परंपरा नहीं थी बल्कि इनकी जगह ऐड हॉक मैनेजर होते थे। लेकिन प्रतियोगिता लगातार बढ़ रहा है और टीम पर काफी दबाब को देखते हुए नब्बे के दशक में कोच की नियुक्त शुरु हो गई। यहां तक कि पहले कई वरिष्ठ खिलाड़ियों ने भी अपनी सेवाएं दी लेकिन वह भी मैनेजर के रुप में उनमें बिशन सिंह बेदी और अब्बास अली बेग शामिल हैं। अपने समय के मजे हुए बल्लेबाज संदीप पाटील ने भी भारतीय टीम में कुछ समय तक कोच की भूमिका निभाई है। गौरतलब है कि संदीप पाटील केन्या की टीम में कोच रहे और उस टीम को 2003 में सेमीफाइनल तक पहुंचाया। अपने समय के बेहतरीन व लाइन और लेंथ के लिए जाने वाले गेंदबाज मदनलान 1996 से लेकर 1997 तक भारतीय टीम में कोच की भूमिका में रहे। लेकिन कोई ज्यादा छाप नहीं छोड़ पाए। 1997 से 99 तक द ग्रेट वॉल के नाम से मशहूर अंशुमान गायकवाड़ कोच के रूप में अपनी भूमिका निभाई। इनके कोच के समय भारत ने कई बेहतरीन मैच जीते। इन्हें दोबारा सन् 2000 में ही कोच की भूमिका निभाए। हरफनमौला खिलाड़ी कपिल देव जिनकी कप्तानी में भारत ने पहला विश्व कप 1983 में जिता था इन्होंने भी बतौर कोच 1999-2000 मे जुड़े रहे। इसी वक्त भारत ने विदेशी कोच की तरफ अपना ध्यान किया और जॉन राइट को चुना उनका कार्यकाल काफी सफल रहा। राइट ने अपने कार्यकाल में सौरव गांगुली को काफी छूट दी इससे ही कई प्रतिभाएं निखकर सामने आई। राइट 2000 से 2005 तक भारतीय टीम को बतौर कोच अपनी सेवाएं दीं। इसके बाद ग्रेग चैपल ने 2005-07 तक भारतीय टीम के कोच रहे जो काफी विवादित रहे। इसके बाद दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी गैरी कर्स्टन ने टीम इंडिया को बतौर कोच एकजुट किया और 2007-11 के बीच धोनी के साथ कई शानदार मैच जितवाए। भारत ने 2011 का विश्व कप दोबारा जीता। इसके बाद डंकन फ्लैचर कोच बने लेकिन उनका कार्यकाल काफी उतार चढ़ाव भरा रहा। भारतीय टीम की रैंकिंग काफी नीचे आ गई। टेस्ट क्रिकेट में एक इंनिंग में दस विकेट लेने वाले व टॉप स्पिन के लिए जाने जाने वाले अनिल कुंबले को 2016 में हेड कोट बनाया गया। उनका कार्यकाल भी काफी सफल रहा। हालांकि विराट कोहली के साथ नहीं बनने के कारण उन्होंने इस्तीफा दे दिया। अब इनकी जगह रवि शास्त्री को कोच नियुक्त किया गया इनका कार्यकाल विश्व कप तक है। बाजार को अच्छी तरह समझने वाले रविशास्त्री और विराट कोहली टीम में कई प्रयोग करेंगे ऐसा समझा जाता है और बेहतरीन प्रदर्शन भी करेंगे। ex team india coachs

loading…