हिमाचल के क्रेशर मालिको द्वारा रेत बजरी की कालाबाजारी को लेकर रोड प्रदर्शन




पंजाब में कांग्रेस सरकार सत्ता में आने के बाद बिधानसभा क्षेत्र मुकेरिया में चल रहे करीब डेढ़ दर्जन से भी अधिक क्रेशर सरकार के हुकमो के बाद बंद हो गए है ।पर पंजाब हिमाचल की सीमा पर गाब मंड पराल ,बरोटा,उलेहडिया ,मिलबा आदि में लगे क्रेशर अपना तैयार माल पंजाब को मैहगे रेटो पर बेच रहे है । farmers road protesting 

इतना ही नही मंड पराल में लगे क्रेशर के मालिक अपनी बड़ी बड़ी ट्रालियों ओर मल्टीएक्सल बाहनो में ओवरलोडिंग रेत बजरी भरकर ठाकुरद्वारा ओर बुड़ाबढ़ के रास्ते पंजाब के गाब पनखुह के ले जाकर एक डम्प लगाकर इकठा की जा रही है और बहा से बजरी 1200 सौ रुपये ओर रेत 1800 सो रुपये प्रति सैकड़ा बेच कर लोगो को दोनों हाथों से लूटा जा रहा है । farmers road protesting 

उन्होंने बताया के बुढ़ाबढ़ बाजार का रास्ता छोटा और खस्ता हालत में है । भारी भरकम गाडिया चलने से रोड के कीनारे बसे घरो ओर दुकानों में धूल ही धूल नजर आती है इसके साथ साथ दुकानों ने आगे ग्राहकों को अपने वाहन खड़े करने मुश्किल हो गए है जिससे दुकांनदारी पर भी बुरा असर पड़ रहा है जिसके विरोध में आज गाब बुडाबढ़ में करीब आधा घंटा क्षेत्र की जनता के ट्रैफिक जाम करके पंजाब सरकार और स्थानिक सत्ताधारियों के खिलाफ जम कर नारेबाजी की। farmers road protesting 

इस मौके पर समिति मेंबर बुड़ाबढ़ डॉ टेहल सिंह और उनके साथियों ने कहा के हम सब जनता बिद्यायक मुकेरिया रजनीश बब्बी ,एस डी एम ओर डी एस पी मुकेरिया को नजायज माइनिंग ओर पंनखुह गाब में लगाए गए गैर तरीके से रेत बजरी के डम्प ओर क्रेशर मालिको द्वारा लोगो से की जा रही लूट मार के खिलाफ के एक मांगः पत्र देकर इनके विरुद्ध कारबाई करने की अपील की थी ।पर एक महीना बीत जाने पर भी अभी तक प्रशाशन पर कोई असर नही पडा है और आज तक कोई भी कारबाई नही हुई है farmers road protesting 

एक क्लिक में जानिए पठानकोठ की हर छोटी बड़ी ख़बरें

इस मोके पर उन्होंने सत्ताधारियों ओर क्रेशर मालिको को आपसी मिलीभगत होने के गभीर आरोप भी लगाए उन्होंने प्रशाशन ओर सरकार को चेताबनी दी के अगर एक सप्तह के अंदर अंदर हिमाचल से आ रही रेत बजरी ना रोकी गई तो पठानकोट मुकेरिया राष्ट्रीय राजमार्ग पर अनिचिचित काल तक जाम लगाया जाएगा । इस संबंधी जब डी एस पी मुकेरिया रविंदर सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा के इस नजायज कारोबार को रोकने के लिए सख्त कदम उठाए जाएंगे।  farmers road protesting 
( के कंसल )