प्रदूषण के खिलाफ केंद्र सरकार ने छेड़ी जंग, लग ने दिए सख्त आदेश।

दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग ने प्रदुषण के खिलाफ जंग छेड़ दी हैं।जहरीले स्मॉग के चलते कई दिनों से बदहाल राजधानी दिल्ली अब सरकार के काम काज पर सवाल उठा रही हैं। govt.war pollution, LG strict order

इस बढ़ते हुए स्मोग को देख कर चारो ओर से कड़े कदम उठाने की मांग की जा रही हैं। मुख्यमंत्री केजरीवाल भी अब इस पर गहन अध्यन कर रहे हैं। अरविंद केजरीवाल ने अन्य अधिकारियों के साथ बैठक के बाद कठोर कदम का एलान किया।

सोमवार को राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों की बैठक हुई। बैठक में मौजूद हरियाणा के पर्यावरण मंत्री विपुल गोयल ने कहा कि इस समस्या की जड़ वाहनों से निकलने वाला उत्सर्जन है।

उन्होंने पराली जलाने को भी इसके लिए जिम्मेदार ठहराया। दूसरी तरफ, पंजाब के पर्यावरण मंत्री तोता सिंह ने कहा कि पराली जलाने से प्रदूषण नहीं हो रहा। दिल्ली के पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने कृत्रिम बारिश के विकल्प पर विचार करने का सुझाव दिया। govt.war pollution, LG strict order

हालांकि, सोमवार का दिन मामूली राहत लेकर आया। दोपहर में चली हवाओं ने कुछ हद तक स्मॉग से राहत दिलाई। शाम होते-होते फिर से हवा की रफ्तार धीमी हो गई। इससे प्रदूषण के स्तर में ज्यादा कमी नहीं आई। अब भी वह खतरनाक स्तर पर बरकरार है।
केजरीवाल नहीं कर रहे हैं काम, जनता हैं परेशान।
स्काई मेट के मौसम वैज्ञानिक महेश पलावत ने बताया कि करीब साढे़ ग्यारह बजे एकाएक चली पश्चिमी और उत्तर-पश्चिमी हवाओं के असर से स्मॉग कुछ हद तक छंट गया।

मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार, सोमवार को मिली राहत फौरी है। आने वाले दिनों में तापमान में कमी आएगी। सो कोहरे का असर भी बढे़गा। इसके चलते बुधवार के बाद फिर से स्मॉग का असर बढ़ सकता है।

इस बीच, उपराज्यपाल नजीब जंग ने दिल्ली में 15 साल पुराने डीजल वाहनों पर रोक लगा दी है। सोमवार से ही 15 साल या उससे अधिक पुराने डीजल वाहनों के पंजीकरण रद करने की कार्रवाई शुरू हो गई। इससे दिल्ली में दो लाख वाहन कम होंगे। प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका पर मंगलवार को सुनवाई होगी।

नजीब जंग नेविवाह समारोह तथा अन्य मौकों पर पटाखे चलाने पर रोक लगा दी गई है। हालांकि, धार्मिक अनुष्ठानों को इससे छूट मिलेगी।

दिल्ली को ट्रांजिट प्वाइंट के रूप में इस्तेमाल करने वाले ट्रकों के राजधानी में प्रवेश करने पर रोक लगा दी गई है।

भलस्वा समेत अन्य लैंडफिल साइटों पर लगने वाली आग पर काबू पाने के लिए नगर निगम हरसंभव प्रयास करेगा।

कंस्ट्रक्शन गतिविधियों पर पांच दिन तक लगी रोक को अब 14 नवंबर तक बढ़ा दिया गया है। यही नियम अतिक्रमण के काम पर भी लागू होगा।

प्रदूषण फैलाने वाली फैक्टि्रयों को तुरंत प्रभाव से बंद करने का आदेश दिया गया है। दिल्ली की सीमाओं पर स्मोक मीटर लगाए जाएंगे। govt.war pollution, LG strict order, govt.war pollution, LG strict order, govt.war pollution, LG strict order