हिन्दू राष्ट्रवाद की स्थापना




आज़ादी के 70 साल बाद पहली बार देश के सभी उचस्त पदों पर संघ एवं हिन्दूवादी विचारधारा से जुड़े लोग काबिज़ हो चुके है ऐसा पहली बार हुआ है जब देश के  राष्ट्रपती यानि की रामनाथ कोविंद जी हो या उपराष्ट्रपति एम्.वेंन्क्या नायडू जी या भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी तीनों पदों पर आरएसएस और  हिंदूवादी विचारधारा वाले लोग आशिन हुए है  hindu nationalism establishment





जानिए नायडू ने पद सँभालते ही क्या कहा

ऐसे में पुरे देश को ऐसा लग रहा है की आने वाला समय देश के लिए हिन्दू संस्करित्वाद  को बढावा दिया जायेगा  और सैकरो वर्ष पुराणी भारतीय परंपरा के अनुसार देश में राम राज की स्थापना हो सकेगा. यु तो  विरोधी इसे कट्टर हिन्दूवाद का संज्ञा दे सकती है hindu nationalism establishment

लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने भी इस बात को अस्पष्ट  कर चूका है की हिन्दू किसी धर्म विशेष के लिए नहीं बल्कि भारतीय संस्कृति का पहचान है ऐसे में इस पर सांप्रदायिक सोच रखने वाले और नकली सेकुलरिज्म आसू बहाने वालों का उतावलापन दिन पर्तिदिन बढ़ना शुरू हो चूका है.अब देखना ये है की ये यात्रा कहा तक जाती है hindu nationalism establishment

जानिए मात्र 4 घंटे में कोलेस्ट्रॉल कम कैसे करें

Leave a Reply