मोदी ने की पाकिस्तान की हेकड़ी बंद indo-america-relation-and-pakistan




प्रवीण कुमार,  indo-america-relation-and-pakistan

वाइट हाउस के एतराज के बाद भी अमेरिका के सत्ताधारी रिपब्लिकन पार्टी ने राष्ट्रिय रक्षा प्राधिकरण विधयेक को स्वीकार कर लिया। इस विधयेक में मांग की गई थी कि पाकिस्तान को दी जाने वाली 45 करोड़ की राशि पर रोक लगा दी जाए। जिसे रिपब्लिकन पार्टी ने स्वीकार कर लिया है। इस रोक से पाकिस्तान को 45 करोड़ डॉलर राशि का नुकसान हुआ है।  indo-america-relation-and-pakistan

अमेरिका ये राशि पाकिस्तान को हक्कानी ग्रुप के खिलाफ काम करने के लिए देता रहा है। किन्तु पाकिस्तान हक्कानी नेटवर्क पर अंकुश लगाने में नाकाम रहा है। अमेरिका प्रतिनिधिसभा में इस विधयेक को पास कराने के लिए 147 के मुकाबले 227 वोट मिले। जिस कारण सत्ताधारी रिपब्लिकन पार्टी विधयेक को पास करने के लिए मजबूर हो गई। हालांकि, वाइट हाउस ने इसका पुरजोर विरोध किया।  indo-america-relation-and-pakistan

आपको बता दें अमेरिका के बढ़ते मोदी प्रेम का यह नतीजा है कि आज पाकिस्तान पर अमेरिका इस तरह की करवाई करने को मजबूर है। पहले फ-16 लड़ाकू विमान पर सब्सिडी नहीं देना, उसके बाद भारत के लिए एनएसजी में पहल करना, अब जबकि हक्कानी नेटवर्क पर पाकिस्तान के बढ़ते हमदर्दी से अमेरिका ने पाकिस्तान को देने वाली मदद राशि पर रोक लगा दिया है। जिससे पाकिस्तान के अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़ने वाला है।  indo-america-relation-and-pakistan

हालांकि, पाकिस्तान को इस बात की खबर है कि आज जो कुछ अमेरिका पाकिस्तान के साथ कर रहा है। वह केवल मोदी प्रेम के लिए है। इस बात से चीन भी वाकिफ है कि अमेरिका भारत का इस तरह  का सहयोग सिर्फ और सिर्फ चीन पर दबाब बनाने के लिए कर रहा है।  indo-america-relation-and-pakistan

पाकिस्तान को इससे काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है क्योंकि पाकिस्तान अमेरिका के द्वारा दिए गये पैसे से पाकिस्तान भारत के खिलाफ इस्तेमाल करता रहा है। जिस कारण अमेरिका के रिपब्लिकन पार्टी ने पाकिस्तान को देने वाली हर मदद पर रोक लगाने की तयारी कर ली है। मोदी ने की पाकिस्तान की हेकड़ी बंद indo-america-relation-and-pakistan