वन बेल्ट, वन रोड के जरिये चीन कश्मीर में कर सकता है दखलंदाजी




चीन भारत पर लगातार बुरी नजर लगाए हुए है। उसकी नजर कश्मीर अधिकृत पाक पर है जिसके लिए नए ऩए तरीके अपना रहा है। चीन ने प्रोजेक्ट वन बेल्ट वन रोड (ओबीओआर) पर काम तेज कर दिए हैं। जिसमें उसके साथ नेपाल और पाकिस्तान है। इस प्रोजेक्ट में चीन नेपाल एक दूसरे से जुड़ने जा रहे हैं। indo china relation cpec

भारत का दूरी बनाए रखना सही कदम है

चीन चाहता है कि भारत भी इस आर्थिक परियोजना का हिस्सा बने परंतु भारत हिस्सा बनने को तैयार नहीं है। भारत इस परियोजना में शामिल नहीं हो रहा है क्योंकि इस आर्थिक परियोजना में चीन और पाकिस्तान शामिल है। यह रेल परियोजना पाक अधिकृत कश्मीर से गुजर रहा है जिसके कारण भारत का ऐतराज है। indo china relation cpec

चीन ऐसे कई गतिविधि करता रहा है जिससे की भारत पर दबाव रहे। चीन लगातार पाकिस्तान और नेपाल को भारत के विरुद्ध भड़काता रहा है और इन दोनों देशों को भारत के खिलाफ उपयोग करता रहा है। चीन 14 मई को चीन वन वेल्ट वन रोड (ओबीओआर) सम्मेलन कर रहा है जिसमें भारत को आमंत्रित किया था लेकिन भारत ने साफ तौर पर इंकार कर दिया है। indo china relation cpec

भारत का चिंतित होना लाजिमी है

इस सम्मेलन में नेपाल और पाकिस्तान शामिल हो रहे हैं। इस रेल परियोजना से पाकिस्तान में चीन की साफ दखल हो जाएगी वह पाक अधिकृत कश्मीर के तहत। भारत ऐसे कोई भी इस इलाके में किए गए गतिविधि का विरोध करता रहा है लेकिन पाकिस्तान चीन की ओर बार बार हाथ फैलाकर यह साबित कर दिया है कि वह इसको हथियार की तरह इस्तेमाल करेगा। indo china relation cpec

शरीफ और मोदी कुछ भी कर ले जाधव को फांसी तो होकर रहेगी : इमरान खान

नेपाल के रिश्ते भारत से पहले काफी अच्छे हुआ करते थे। लेकिन विगत कुछ वर्षों से नेपाल का झुकाव चीन की ओर बढ़ा है जिससे कई असुविधाएं भी हुई हैं। नेपाल चीन और भारत के बीच बफर स्टेट है। नेपाल में जिस तरह से चीन की गतिविधियां तेज हुई हैं इसके बाद से भारत का चिंतित होना लाजिमी है। ऐसे कोई भी प्रोजेक्ट जिसमें पाकिस्तान को लाभ हो रहा है भारत का दूरी बनाए रखना सही कदम है। indo china relation cpec