मरने के लिए तरप रहा था इस्लामिक आतंकी। Islamic militant to die was dying.

अपूर्व उप्रेती “द्वारा सम्पादित” इराक में एक आतंकवादी पकड़े जाने के बाद यह बोल रहा था की उसको मार डालो क्योंकी मरने से में शाम को 4:00 बजे जनत के धार्मिक उत्सव में शामिल हो सकूंगा।
इस आतंकवादी को पश्चिमी ईराक के मोसुल प्रांत में पकड़ा गया था . Islamic militant

आतंकवादी को पश्चिमी ईराकIslamic militant

यह आतंकवादी पकड़े जाने के बाद ये बोले जा रहा था की मुझको जन्नत में हो रहे धार्मिक उत्सव में जाना जरूरी है। क्यों की वो जन्नत में चल रहे मुस्लिम उत्सव इसरा और मिराज के अवसर पे जाना है। इस प्रोग्राम मे उसका शामिल होना जरूरी था लेकिन अब वो अब जेल में बंद है इस लिए वो उसे मारदे ताकि मरने के बाद वो उस प्रोग्राम में जा सकेगा।

\ Islamic militant
आंतकवादी नै ये भी बताया था की आस्था के मुताबिक इसरा और मिराज में हीं पैगम्बर मोहमद अल्लाह से मिलने और इजाजत लेने जन्नत के सफर पर गए थे। Islamic militant

इस एक्सीडेंट को ले के लेप्टिनेंट जनरल सलीम अली सुर्जी नै कहा की मैं उस आंतकवादी की चोट की पट्टी कर रहा था तब मैंने आतंकवादी से पूछा तब उसने कहा की मैं इराक के सामरा प्रान्त का रहने वाला हूँ और अपने
५० आतंकवादी साथिओ के साथ यहां लड़ने आया था Islamic militant