भगत सिंह की तरह जाधव को गुप चुप तरीके से फांसी देने के फ़िराक में है पाकिस्तान




कुलभूषण जाधव की मौत की सजा पर पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय से तमाजा लगा है। फांसी पर रोक लगाने को कहा है। पहले से ही सरकार और सेना के बीच तनावपूर्ण माहौल कायम है और अब पाकिस्तान सरकार विरोधी दल के निशाने पर आ गए हैं। जिससे सत्तासीन नवाज शरीफ सरकार की मुश्किलें बढ़ गई हैं। jadhav fansi aur bharat srkar 

वियना समझौते

पाकिस्तान को अतंरराष्ट्रीय न्यायालय में मुंह की खानी पड़ी जहां कुलभूषण जाधव की मौत की सजा पर रोक लगा दी है। विपक्षी दल लगातार सरकार को घेर रही है कि वह न्यायालय के सामने सही तरीके से मुद्दे को नहीं रख पाई है। पाकिस्तान वकील को दिए गए फीस को लेकर भी विपक्षी दल निशाने साध रही है। jadhav fansi aur bharat srkar 

जहां वकीलों को सात करोड़ रुपए का भुगतान किया गया लेकिन पाकिस्तान के विपक्ष में फैसला आया है। पाकिस्तान के विदेशी मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने कहा है कि पाकिस्तान ने अतंरराष्ट्रीय कोर्ट में मजबूती के साथ अपना पक्ष रखा है। फिर भी हम पिछड़ गए हैं अब वकीलों की नई टीम गठित की जाएगी। जो मामले की पैरवी करेगी। jadhav fansi aur bharat srkar 

19 मई को फांसी पर रोक लगा दी

गौरतलब है कि पाकिस्तान की तरफ से खैबर कुरैशी पाकिस्तान की तरफ से अन्तरराष्ट्रीय न्यायालय में अपना पक्ष ऱखा था। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा पर रोक लगा दी है। जिसके बाद पाकिस्तान सरकार की खूब कीरकीरी हुई है। गौरतलब है कि जाधव को पाकिस्तान मिलिट्री कोर्ट ने बिना सबूत के ही फांसी दी सजा सुनाई थी। jadhav fansi aur bharat srkar 

हिजड़ों की जमात में मुफ़्ती भी है शामिल फेंको पत्थर और बरसाओ गोली : मीरवाइज फारूक

जिसको लेकर भारत ने पहले कड़े रुख के साथ पाकिस्तान को चेतावनी दी। उसके बाद अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में इस मसले को ले जाया गया जहां वियना समझौते का उल्लंघन करने का पाकिस्तान पर आरोप लगाया गया। जिसमें अंतरराष्ट्रीय कोर्ट ने पहले ही इनकी फांसी पर रोक लगा दी थी। उसके बाद सुनवाई के बाद 19 मई को फांसी पर रोक लगा दी। गौरतलब है कि भारत पाकिस्तान एक दूसरे से अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में 18 साल पहले भिड़े थे। jadhav fansi aur bharat srkar