आप बताओ क्या मैं दिल्ली का खलनायक हूँ : केजरीवाल




दिल्ली में एक सीट पर हुए उपचुनाव ने आम आदमी पार्टी की पोल खोल दी है। अब उसके दिमाग ठिकाने लग गए हैं। आम आदमी पार्टी को दिल्ली में हुए उपचुनाव में दिमाग ठिकाने लग गए। जब उसके उम्मीदवार की जमानत जब्त हो गई है। अब कई तरह के कमेंटस आने लगे हैं। kejriwal chor hai 

फिलहाल आम आदमी की तलाश में फिर से जुटेगी आम आदमी पार्टी।

जिस तरह से ढ़ाई साल पहले दिल्ली में सरकार बनाई थी और प्रचंड बहुमत जनता ने दिया था जिसपर वे खरे नहीं उतरे। और प्रतिदिन केंद्र सरकार पर हमले करते रहे। जिससे जनता में रोष तो आना ही था। अब जब नगर निगम चुनाव है और तेजी से भाजपा, कांग्रेस प्रचार कर रही है ऐसे में उपचुनाव में आम आदमी पार्टी का जमानत जब्त होने से झटका लगा है। अब उसे अहसास हो गया है कि शायद अब उसे नगर निगम चुनाव में भी झटका लग सकता है। kejriwal chor hai 

गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव के बाद जो भी चुनाव हुए हैं चाहे मिलिट्री एरिया का या स्टुडेंट यूनियन का सभी जगह पर आम आदमी पार्टी को झटका लगा है। अब जब राजौरी गार्डेन जैसे इलाके में आप का जमानत जब्त हो गई तो तय है कि उसके लिए खतरे की घंटी है। पहले ही आम आदमी पार्टी के कई विधायकों पर चार्जेज लगे हुए हैं और 21 विधायक तो ऑफिस ऑफ प्रोफिट के मामले में कभी भी सदस्यता जा सकती है। जिसको लेकर खूब राजनीति की जा रही है। kejriwal chor hai 

केजरीवाल मेरे दामाद जैसा है इसलिए मैं उसका केस मुफ्त में लड़ूंगा : रामजेठमलानी

निर्वाचन आयोग के पास इन विधायकों का मामला सुरक्षित है। अगर इनकी सदस्यता जाती है तो तय है कि उपचुनाव होंगे जिसमें आम आदमी पार्टी को फिर से झटका लग सकता है क्योंकि जिस तरह की रणनीति पर भाजपा चल रही है इससे उसे फायदा मिल रहा है और कांग्रेस भी जमीनी स्तर पर कार्य करने में लगी है जिसका फायदा उसे इस उपचुनाव में वोट प्रतिशत से साफ दिखा। फिलहाल आम आदमी की तलाश में फिर से जुटेगी आम आदमी पार्टी। kejriwal chor hai