कुलभूषण जाधव आंतकी है और उसे फांसी की सजा होकर रहेगी : इमरान खान




भारतीय नौसेना के रिटायर्ड अधिकारी कुलभूषण जाधव के बचाव के लिए भारत के द्वारा किए जा रहे प्रयास ने रंग लाई है। और अब उनकी फांसी पर रोक लगा दी गई। पाकिस्तान जेल में बंद कुलभूषण जाधव के लिए राहत भरी खबर है। जिन्हें पाकिस्तान मिलिट्री कोर्ट ने फांसी की सजा सुना दी है। इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने कुलभूषण जाधव के फांसी की सजा पर रोक लगा दी है और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को तत्काल रूप से इसे फांसी पर रोक लगाने को कहा है। kulbhushan jadhav ki saja par rok 

इस पर सुनवाई 15 मई से होगी

गौरतलब है कि भारत ने पाकस्तानी मिलिट्री कोर्ट के इस फैसले को चुनौती अंतरराष्ट्रीय अदालत में दी थी जिसमें उनसे कुलभूषण जाधव को बिना पुख्ता सबूत के फांसी की सजा सुना दी। जिसको लेकर भारत ने लगातार अपना विरोध पाकिस्तान के खिलाफ दर्ज कराया था। भारत ने इंटरनेशनल कोर्ट में विएना समझौते का उल्लंघन करने का आरोप लगाया था। kulbhushan jadhav ki saja par rok 

भारत ने तर्क दिया था कि कुलभूषण जाधव अपने व्यापारिक गतिविधि के चलते ईरान में था जहां से किडनैप कर लिया गया। भारत ने पाकिस्तान पर यह भी आरोप लगाया कि जाधव की गिरफ्तारी की सूचना काफी समय बाद नहीं दी गई। भारत ने इंटरनेशनल कोर्ट में कहा कि वह आरोपी के मानवाधिकारों की रक्षा करने में असफल रहा है। इसके पहले भारत ने पाकिस्तान को मिलिट्री कोर्ट द्वारा दिए गए फैसले को बदलने को कहा था। kulbhushan jadhav ki saja par rok 

भारत ने बहुत कूटनीति तरीके से भी पाकिस्तान को घेरने की कोशिश की। भारत ने मजबूत मुस्लिम राष्ट्र के सामने भी यह मुद्दा उठाया। जिसके बाद पाकिस्तान पर दवाब बनाया जा रहा था। भारत ने पाकिस्तान को साफ तौर पर कह दिया था कि कुलभूषण जाधव को अगर फांसी होती है तो दोनों देशों के रिश्ते पर इसका असर पड़ेगा। मोदी सरकार जाधव को बचाने के लिए पूरे जोर से प्रयास कर रही है अब जब इंटरनेशनल कोर्ट ने फांसी पर रोक लगा दी निश्चिततौर पर मोदी सरकार द्वारा समय पर उठाए गए कदम से ही मेहनत रंग लाई है। kulbhushan jadhav ki saja par rok 

जानिए भारत ने पाकिस्तान से किस तरह लिया बदला

हालांकि , अभी अंतराष्ट्रीय न्यायालय में विचाराधीन है। अतः इस पर सुनवाई 15 मई से होगी। जंहा भारत की तरफ से हरीश साल्वे जाधव और भारत के पक्ष को प्रस्तुत करेंगे। तत्काल 19 मई तक अंतराष्ट्रीय न्यायालय ने जाधव की सजा पर रोक लगा दी है। इसका तात्पर्य है कि मोदी सरकार को जाधव की सजा माफ़ी के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी।  kulbhushan jadhav ki saja par rok