आप बताओ क्या हमें हिन्दू धर्म अपना लेना चाहिए




पीएम मोदी के बढ़ते कद की तोड़ ढूंढने में विपक्ष जुटी हुई है। इसके लिए विपक्षी नेता पीएम मोदी का अनुसरण करने में लगे है। सबसे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने इसकी शुरुवात की। अब समाजवादी पार्टी के राष्ट्रिय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने इस क्रम को आगे बढ़ाया है। यह अनुसरण धर्म को लेकर है। kya hmen hindu dharm apna lena chahiye

इससे पहले ये दो विपक्षी नेता इस्लाम धर्म का पालन करते थे लेकिन जबसे इन दोनों को पीएम मोदी के बढ़ते कद के कारण का पता चला है। उस दिन से दोनों ने हिन्दू धर्म को तवज्जों देने की ठान ली है। kya hmen hindu dharm apna lena chahiye

राहुल गाँधी भी अक्षरधाम पहुंचे।

हालांकि, पीएम मोदी ने हिंदुत्व और हिन्दू धर्म को अपने शाशनकाल में शीर्ष पर पहुंचा दिया है। इससे पहले हिन्दू धर्म की संभ्यता और संस्कृति से सब अवगत थे लेकिन पीएम मोदी ने उसके प्रचार-प्रसार में विशेष योगदान दी है। जिसका परिणाम राहुल गाँधी का मंदिर में जाना और अखिलेश यादव का कृष्ण प्रतिमा स्थापित करना है। kya hmen hindu dharm apna lena chahiye

काले दाग का दुश्मन | कोहनी एवं घुटने का कालापन नाशक |

गौरतलब है विपक्ष के नेता इस्लाम धर्म को अधिक तवज्जो देते रहे है। वे रमजान, ईद, बकरीद के अवसर पर दावत देने या इफ्तार में शरीक होने से गुरेज नहीं करते है। वही जब हिन्दू धर्म की पूजा की बात आती है तो ये नेता कभी कभार मंदिर में दिखते है। लेकिन पीएम मोदी ने अपने शाशनकाल में हिन्दू धर्म के अधीन रह शासन किया और देश को वैश्विक स्तर पर एक नई पहचान दी। पीएम मोदी के इसी अंदाज को राहुल गाँधी और अखिलेश यादव ने अपनाया है। kya hmen hindu dharm apna lena chahiye

प्रदुषण मामले में NGT ने फिर लगाई केजरीवाल सरकार को फटकार

बता दें राहुल गाँधी ने गुजरात के गाँधी नगर स्थित द्वारका मंदिर में जाकर दर्शन किए, पूजा अर्चना की। उसके बाद राहुल गाँधी ने जाम नगर स्थित माँ दुर्गा के मंदिर जाकर पूजा अर्चना की। वही पीएम मोदी के अक्षरधाम यात्रा के पश्चात राहुल गाँधी भी अक्षरधाम पहुंचे। जंहा उन्होंने पूजा अर्चना की। kya hmen hindu dharm apna lena chahiye

जबकि अखिलेश यादव के बारे में ऐसा सुना जा रहा है कि वे अपने गृह नगर सैफई में 55 फ़ीट ऊँची कांसे से निर्मित भगवान् कृष्ण की प्रतिमा स्थापित करने जा रहे है। राहुल गाँधी और अखिलेश यादव के बदले तेवर से ऐसा पता चलता है कि ये दोनों शायद देश की जनता से एक सवाल पूछ रहे है कि आप बताओ क्या हमें हिन्दू धर्म अपना लेना चाहिए ? kya hmen hindu dharm apna lena chahiye



Leave a Reply