ललुआ के लाठी के डर से अच्छे अच्छे सुधर गए तो ये गैंडा अमित शाह और मोदी क्या चीज़ है : लालू यादव




लालू यादव ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा है कि हमें डराए नहीं उखाड़ फेंकेंगे ऐसी सरकार को जो गरीब विरोधी है। भाजपा नए पार्टनर के रूप में आयकर विभाग को शामिल कर लिया है। जिसका इस्तेमाल किया जा रहा है। राजद सुप्रीमो व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव ने साफ तौर पर भाजपा को चुनौती देते हुए कहा कि वे भाजपा को कुर्सी से उतार फेंकेंगे। चाहे हमारी स्थिति कैसी भी हो। lalu ki lathi se darte hai 

लालू प्रसाद इसी डर से विपक्ष को एकजुट करने में जुटे हैं

जिस प्रकार से केंद्र सरकार ने आयकर विभाग से हमारे ठिकानों पर छापे मरवाए हैं यह साफ है कि मेरी छवि लगातार खराब करने में जुटे हैं। भाजपा इस कोशिश में है कि मेरी छवि देश में खऱाब रहे। लालू यादव ने साफ तौर पर कहा कि अगर केंद्र सरकार का रवैया मेरे प्रति ऐसी ही रही तो भाजपा सरकार पांच साल पूरे नहीं कर पाएगी। lalu ki lathi se darte hai 

केंद्र सरकार की नीतियों के विरुद्ध विपक्ष एकजुट हो रहा है इसी मद्देनजर 27 अगस्त को पटना के गांधी मैदान में बीजेपी भगाओ देश बचाओ रैली का आयोजन किया गया है जिसमें समान विचारधारा वाली पार्टी शामिल होंगी। इसी रैली में आगे की रणनीति तय होगी कि विपक्ष किस प्रकार से केंद्र सरकार का विरोध करें। lalu ki lathi se darte hai 

गौरतलब है कि 16 मई को आयकर विभाग ने लालू प्रसाद के 22 ठिकानों पर एक साथ छापे मारे जिसके बाद विपक्ष केंद्र सरकार पर आरोप लगाए कि वह विपक्ष की आवाज दबाने के लिए ऐसा कर रही है। लालू प्रसाद ने इसके बाद विपक्ष को एकजुट करने में लग गए हैं और 27 अगस्त की रैली के लिए उन्होंने सोनिया गांधी से शामिल होने का आग्रह किया। lalu ki lathi se darte hai 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता लगातार बढ़ रही है

उन्होंने साफ तौर पर इन्हें कहा कि अगर आप रैली में शामिल नहीं हो पाए तो प्रियंका गांधी को रैली में भेज दीजिए। जिससे की विपक्ष की एकता का साफ अंदाजा भाजपा को लग जाए। गौरतलब है कि लालू प्रसाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को रैली से दूर रखने का संकेत भी दे दिया है। जिसके बाद भाजपा भी इनकी रणनीति पर चुटकी ले रही है। lalu ki lathi se darte hai 

मेरा नाम केजरीवाल है और मैं देशद्रोही नहीं हूँ !

दरअसल लालू प्रसाद को यह सब इसलिए करना पड़ रहा है क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता लगातार बढ़ रही है और जिस तरह से प्रचंड बहुमत उत्तर प्रदेश में हासिल हुई है ऐसे में बिहार फतह करना भी इनके लिए आसान हो गया है। लालू प्रसाद इसी डर से विपक्ष को एकजुट करने में जुटे हैं। lalu ki lathi se darte hai