भगवान गणेश को मांस खिलाने पर मोदी सरकार हुए नाराज




ऑस्ट्रेलिया के एक टेलीविज़न विज्ञापन में भगवान् गणेश जी को मेमने का मीट खातेमें दिखाया गया। इस विज्ञापन से न केवल ऑस्ट्रेलिया में बल्कि भारत के हिंदू समुदाय में नाराज़गी का माहौल है। ऑस्ट्रेलिया की इस टेलीविए डापन से देशवासी आहत है और देश की जनता इसका जमकर विरोध कर रही है। lord ganesha eating meat ad 

वेदों, पुराणों एवं शास्त्रानुसार हिन्दू धर्म के सभी देवी और देवता शाकाहारी है। जो केवल फल, फूल और वनस्पति खाते है। ऐसे में भगवान गणेश जी के बारे में इस तरह का तर्क देना और दिखाना पूरी तरह से निंदनीय है। इस सन्दर्भ में मोदी सरकार को संज्ञान लेना चाहिए। और ऑस्ट्रेलियन सरकार को सूचित कर दोषियों के खिलाफ कड़ी करवाई करने का अनुरोध करना चाहिए। ताकि भविष्य में कोई भी देश हिन्दू धर्म के देवी देवताओं के लिए इस तरह का निंदनीय काम न करे। lord ganesha eating meat ad 

क्या है पूरा मामला

बता दें कि इस विज्ञापन में भगवान् ईसा मसीह, गौतम बुद्ध, साइंटोलॉजी धर्म के संस्थापक एल रॉन हबर्ड और गणेश जी को एक मेज पर लंच करते दिखाया गया है। जिसमें भगवान् गणेश जी का रूप धारण का कोई शख्स बैठा है। जो मेमने का मीट खा रहा है। वही अन्य धर्म के भगवान् भी इस तरह की गतिविधि में शामिल है। जबकि विज्ञापन में यह भी कहते सुना जा सकता है की इस पार्टी में हजरत मोहम्मद साहब शामिल नहीं हो सके। lord ganesha eating meat ad 

बाबा रामदेव फ़र्ज़ी और ढोंगी है उन्हें भी जेल में डाल देना चाहिए : दिग्विजय सिंह

इस बाबत भारतीय उच्चायोग ने ऑस्ट्रेलिया सरकार से इस पर कार्रवाई करने के लिए कहा है. भारत ने ‘मीट एंड लाइवस्टॉक ऑस्ट्रेलिया’ (एमएलए) से इन विज्ञापनों को हटाने की अपील की है। वही भारतीय उच्चायोग ने कहा, “कई सामाजिक संगठनों ने भी ऑस्ट्रेलियाई सरकार और ‘मीट एंड लाइवस्टॉक ऑस्ट्रेलिया’ के सामने अपना विरोध जताया है.” इस विज्ञापन के विरोध के लिए ऑनलाइन कम्पैन भी चलाया गया। जिसमें अब तक ४५ सौ से अधिक लोगों ने शिकायत दर्ज कराई है। lord ganesha eating meat ad 

झरते बालों को फिर से उगाना है तो इसे खाएं या लगाएं

बता दें कि यह विज्ञापन गणेश चतुर्थी के बाद डाली गयी है। जिसका मकसद ऑस्ट्रेलिया में भेड़ की मांस की खपत को बढ़वा देना है। जिसके लिए वे हिन्दू धर्म सहित सभी धर्मो के भगवान् को हाशिया बनाया है। जोकि निंदनीय और दंडनीय है। ऐसा करना न केवल कानून को हाथ में लेना है बल्कि हिन्दू धर्म से जुड़े लोगों की भावना को ठेस पहुंचना है। ऐसे लोगों के खिलाफ सरकार को सख्त से सख्त करवाई करनी चाहिए। lord ganesha eating meat ad