मैं पीएम मोदी की तरह धर्म का दलाल नहीं हूँ : राहुल गाँधी




राहुल गाँधी ने धर्म को लेकर उठे विवाद पर सफाई देते हुए कहा कि वे और उनका पूरा परिवार शिव भक्त है। हालांकि, वे अपने धर्म का इस्तेमाल विवाद के लिए नहीं करते है। उन्होंने कहा कि मुझे धर्म को साबित करने के लिए किसी सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। ये उनलोगों के लिए जरूरी है जो धर्म के नाम पर दलाली करते है। मैं जनेव धारी हिन्दू हूँ जबकि मेरा पूरा परिवार शिव भक्त है। main dharm ka dlal nhi hun 

दान नहीं कर्ज लेकर हमने अपना एम्पायर खड़ा किया है : टाटा ग्रुप

विदित रहे कि राहुल गाँधी पिछले दिनों सोमनाथ मंदिर पहुंचे। जंहा उनको मंदिर के रीति रिवाजों से गुजरना पड़ा। इस रिवाज में जो हिन्दू नहीं होता है उसे नाम और धर्म के बारे में जानकारी देनी पड़ती है। इस क्रम में राहुल गाँधी ने मंदिर में प्रवेश के लिए खुद को गैर हिन्दू बताया। जबकि अपना नाम राहुल गाँधी जी लिखवाया। उसके बाद राहुल गाँधी मंदिर में प्रवेश कर पूजा अर्चना की। main dharm ka dlal nhi hun 

वे हिन्दू नहीं है

राहुल गाँधी के इस रवैये को बीजेपी ने आड़े हाथ लिया। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि राहुल गाँधी के धर्म को लेकर पहले से जगजाहिर है। हालांकि, उन्होंने इसकी पुष्टि की है। कांग्रेस धर्म साधन के लिए प्रयोग करती है। जबकि राहुल गाँधी को हिन्दू धर्म के बारे में जीरो जानकारी है। main dharm ka dlal nhi hun 

मच्छर, मक्खी कीड़े-मकौड़े भगाए और घर में सोंधी खुशबू फैलाए

बता दें इससे पहले दिवंगत राजीव गाँधी ने कश्मीर के एक कार्यक्रम में कहा था कि वे हिन्दू नहीं है। उनके पूर्वज मुस्लमान के वंशज है। वही दिवंगत जवाहर लाल नेहरू ने अपनी पुस्तक भारत एक खोज में लिखा था कि वे दुर्भाग्य से हिन्दू धर्म को मानने लगे है। जबकि उनके विचार ईसाई धर्म से मिलते जुलते है। main dharm ka dlal nhi hun 

( प्रवीण कुमार )