मैंने अपने पिता जी के साथ कोई गद्दारी नहीं की है : अखिलेश यादव





अखिलेश यादव भी मान चुके हैं कि मुलायम सिंह यादव उनसे नाराज चल रहे हैं जिसके कारण उनके किसी भी कार्यक्रम में वे शिरकत नहीं करते हैं। सपा अध्यक्ष व उत्तर प्रदेश के पूर्व अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि समाजवादी नेता मुलायम सिंह यादव उनसे नाराज हैं जिसके कारण ही वे चाचा रामगोपाल यादव की जन्मदिन पार्टी में नहीं आए हैं। उनकी नाराजगी हमसे है न कि चाचा रामगोपाल यादव से। maine gaddari nahi ki hai



maine gaddari nahi ki hai शिवपाल यादव के निशाने पर अखिलेश यादव रहे

गौरतलब है कि सपा सांसद राम गोपाल यादव की जन्मदिन पार्टी सफई में मनाया गया। जिसमें सपा के कई वरिष्ठ नेता मौजूद थे लेकिन मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव नहीं आए। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के पहले ही शिवपाल यादव और अखिलेश यादव में तनातनी हो गई। जिसके बाद अखिलेश यादव ने विशेष अधिवेशन बुलाकर जहां मुलायम सिंह यादव को अध्यक्ष पद से हटाया।
वहीं शिवपाल यादव को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटा दिया। उसके बाद शिवपाल यादव ने अलग पार्टी बनाने का ऐलान किया है। शिवपाल यादव का दावा है कि बड़े भाई मुलायम सिंह यादव उनके साथ हैं। कई बार मुलायम सिंह यादव भी अखिलेश यादव की सार्वजनिक आलोचना कर चुके हैं। maine gaddari nahi ki hai  

मुलायम सिंह यादव उनकी कार्यशैली से नाराज हैं

सपा के विशेष लड़ाई के बीच में रामगोपाल यादव ही थे। जो अखिलेश यादव के साथ थे। अखिलेश यादव जिसके कारण रामगोपाल यादव की प्रशंसा करते हैं कि इनके कारण ही वे आज सपा के अध्यक्ष हैं और चुनाव चिह्न उनके पास है। अभी तक अखिलेश यादव कभी भी खुलकर यह नहीं कहा था कि पिता जी उनसे नाराज हैं। maine gaddari nahi ki hai 

हिन्दुओं सुधर जाओ नहीं तो भारत के सौ टुकड़े कर दूंगा : ओवैसी

लेकिन अब वे खुलकर सामने कह रह हैं कि मुलायम सिंह यादव उनकी कार्यशैली से नाराज हैं। लेकिन यह राजनीतिक मजबूरी है। अखिलेश यादव ने विधानसभा चुनाव में सभी निर्णय खुद कर रहे थे जिसमें कांग्रेस के साथ गठबंधन का था। हालांकि विधानसभा के चुनाव में उन्हें सफलता हासिल नहीं हुई तो शिवपाल यादव के निशाने पर अखिलेश यादव रहे।

loading…