दुबे, शर्मा, झा, त्रिवेदी को मिला आरक्षण





इस बार का मामला बड़ा ही पेचीदा है। पीएसी के पास इस बार एक अजीब शिकायत पहुंची। इस घोषित परिणाम को सुनकर आप ये मत समझ लेना की किसी सवर्ण को नौकरी मिल गई। दरअसल इसके पीछे का मामला कुछ और ही है। जब पीएसी में इस सरनेम को लेकर ये आरोप लगे की एससी ,एसटी कोटे में ये झा, शर्मा, त्रिवेदी, भदौरिया, बघेल, गौड़ , पांडेय, उपाध्याय आदि उपनाम वाली इक्कीश उम्मीदवारों की शुचि आते ही चारों तरफ हड़कम्प मच गया। make indian reservation free 

आखिर एससी एसटी और ओबीसी के इस पद पर इन महानुभावों की नियुक्ति कैसे हो गई। इस गफलत की जब जांच की गई तो पता चला की ये सभी उसी कोटे के हैं जिसमें इनका भर्ती हुआ है। इनके भर्ती में कोई गड़बड़ी नहीं हुई है। make indian reservation free 

कई स्वर्ण ऐसे हैं जिन्हे दो जून की रोटी नहीं मिलती make indian reservation free 

भार्गव से लेकर गोयल तक इनके अन्य उपनामों की चर्चा हमने ऊपर की है। ये सभी इक्कीश उम्मीदवार एससी ,एसटी एवं ओबीसी के ही हैं। दरअसल 2013 की चयन सूचि जारी की गई है। इसबार पीएससी ने पारदर्शिता लाने की बहुत कोशिश की है। make indian reservation free 

फिर भी इस मामले को लेकर बहूत सारी शिकायतें पहुंची जिसमें योगेश कुमार उपाध्याय, अग्नीश गोयल, कीर्ति बघेल, बरखा गौड़, आशा भार्गव,सौरभ तोमर के नाम कि चर्चा शिकायत करता ने किया। मामला ये है की आरक्षित वर्ग में सवर्णों के सरनेम वाले एस सी एस टी एवं ओबीसी कोटे के ही हैं। make indian reservation free 

पीएससी ने पारदर्शिता लाने की बहुत कोशिश की है make indian reservation free

आरोप लगाने वालों का कहना था की मामले में कहीं न कहीं कोई न कोई गड़बड़ी अवश्य ही है। पी एस सी के सचिव मनोहर दुबे ने खा किसरनेम को नियुक्ति का आधार नहीं माना जा सकता। यह सही है की सर नेम स्वर्णो का है लेकिन सर्टिफिकेट इन अभ्यर्थियों के एस टी ,एस टी एवं ओबीसी वाला है। make indian reservation free 

मोदी के डर से अमेरिका ने दिया पाकिस्तान को धोखा

हमने सरनेम नहीं बल्कि सर्टिफिकेट को आधार मानकर नियुक्ति की है। लेकिन अब ये मामला टूल पकड़ती जा रही है। सरनेम को मानकर सरकार जाती प्रथा को प्रस्रय देती है। कई स्वर्ण ऐसे हैं जिन्हे दो जून की रोटी नहीं मिलती उन्हें गर्व था तो अपने उपनाम यानि सरनेम पर। मगर यहाँ तो आरक्षण के साथ साथ सवर्णों का सर नेम भी ले गया जो की अन्याय है। make indian reservation free