मोदी भगवान् नहीं है जो हम उनकी हर बात को माने : अरुप बिसवास




पश्चिम बंगाल केंद्र सरकार के कार्यों का लगातार विरोध करते रहे हैं। प. बंगाल के एक मंत्री ने लाल बत्ती बैन को मानने से साफ इनकार कर दिया है। केंद्र सरकार ने लाल बत्ती पर देश भर में बैन कर दिया है लेकिन प. बंगाल के लोक निर्माण मंत्री अरुप विसवास ने इसे मानने से साफ इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि पश्चिम बंगाल में इसपर बैन नहीं है। mamta minister using red signal 

लाल बत्ती का इस्तेमाल

हमारी सरकार ने ऐसा कोई निर्देश जारी नहीं किया है। इसलिए वे अपने गाड़ी में लाल बत्ती लगाएंगें। उनका कहना है कि हम दूसरों का आदेश मानने के लिए बाध्य नहीं हैं। दरअसल केंद्र सरकार का विरोध कर चर्चा में बने रहना चाहते हैं। ऐसे भी केंद्र सरकार की सभी नीतियों को वे लगातार विरोध प. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी करती रही हैं। तो इनके मंत्री कहां पीछे रहते। mamta minister using red signal 

वहीं सिलीगुड़ी जलपाईगुड़ी विकास प्राधिकरण के चेयरमैन भी लाल बत्ती का प्रयोग कर रहे हैं। इसके पहले कोलकाता की टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम मौलाना नूर उर रहमान बरकाती भी लाल बत्ती के इस्तेमाल पर कहा था कि यह उनका विशेषाधिकार है और ब्रिटिश सरकार द्वारा घोषित शाही इमाम घोषित किया गया है और उसी के तहत लाल बत्ती का इस्तेमाल कर रहे हैं। mamta minister using red signal 

दिल्ली, पंजाब और उत्तर प्रदेश सरकार ने लाल बत्ती पर रोक लगा दी है।

इस तरह के बयान के बाद मस्जिद ट्र्स्टी बोर्ड ने उन्हें बर्खास्त कर दिया था। गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने अप्रैल माह में ही लाल बत्ती पर रोक लगा दी है जिससे वीवीआईपी कल्चर को खत्म किया जा सके। देश भर में 1 मई से ही इसपर बैग लगा दिया गया। mamta minister using red signal 

गौ हत्यारी और देश की कलंकनी कांग्रेस को फांसी पर लटकाओ !

अब केवल राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया और लोकसभा स्पीकर ही लाल बत्ती का इस्तेमाल कर सकेंगे। गौरतलब है कि कई राज्य लाल बत्ती के इस्तेमाल पर पहले से रोक लगाए हुए हैं। जिसमें दिल्ली, पंजाब और उत्तर प्रदेश सरकार ने लाल बत्ती पर रोक लगा दी है। mamta minister using red signal