RSS मेरा गला काट दें फिर भी मैं मुसलमानो के लिए ही जीऊँगी: ममता बनर्जी




कलकत्ता हाई कोर्ट के फैसले के बाद ममता सरकार ने आनन-फानन में हाई लेवल की मीटिंग बुलाई है। जिसमें सभी बड़े अधिकारीयों को तलब किया गया है। ये मीटिंग कलकत्ता हाई कोर्ट द्वारा ममता सरकार के आदेश  दुर्गा प्रतिमा विसर्जन पर स्थगन के लिए बुलाई गयी है। इस मीटिंग में चीफ सेक्रटरी मलय रॉय, होम सेक्रटरी अत्री भट्टाचार्य, डीजीपी सुरजीत पुरकायस्थ, कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के अलावा सभी एसपी और मंत्री शामिल होंगे। जो कोर्ट के आदेश के बाद ताजा हालात की समीक्षा करेंगे। mamta slams rss

बीजेपी का बेटा विकास पागल हो गया है : कांग्रेस

बता दे हाल ही में ममता सरकार ने एक फरमान जारी किया था। जिसमें दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के लिए रुपरेखा तैयार की गयी थी। इस गाइडलाइन में दशहरा के दिन शाम 6 बजे तक प्रतिमा विसर्जन का समय दिया गया था। जबकि 1 अक्टूबर को मुहर्रम होने के कारण प्रतिमा विसर्जन पर पाबन्दी लगायी गयी थी। mamta slams rss

गौरतलब है ममता सरकार के दुर्गा प्रतिमा विसर्जन पर रोक आदेश के खिलाफ 14 सितंबर को अधिवक्ता अमरजीत रायचौधरी ने कलकत्ता हाई कोर्ट में PIL दाखिल की थी। चौधरी ने तर्क दिया था कि दुर्गा पूजा बंगाल का सबसे बड़ा उत्स्व है। जिसमें सभी विधियां शुभ समय के अनुसार होती है। तो विसर्जन भी शुभ समय पर होनी चाहिए। लेकिन ममता सरकार के आदेश से ऐसा लग रहा है जैसे वे धार्मिक अधिकारों का हनन करना चाहती है।  mamta slams rss

संबित पात्रा ने ममता को दी नसीहत

कोर्ट ने PIL पर सुनवाई करते हुए ममता बनर्जी के उस फैसले पर रोक लगा दी है। जिसमें ममता सरकार ने राज्य में दुर्गा मूर्ति के विसर्जन पर मुहर्रम के दिन रोक लगा दी थी। कोलकाता हाई कोर्ट ने ममता सरकार के उस फैसले को रद्द कर दिया है। इससे पहले कोर्ट ने 20 सितंबर को ममता सरकार को फटकार लगाते हुए कहा था कि वे दो समुदाय के बीच विवाद पैदा न करे। mamta slams rss

घना दाढ़ी मुछ बढाने का न्यू फार्मूला

कोर्ट के फैसले के बाद ममता बनर्जी ने कहा, भले ही मेरा गला काट दो पर मुझे क्या करना चाहिए, ये कोई मुझे न सिखाये। ममता के इस बयान पर बीजेपी ने तीखी प्रतिक्रिया की। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने ममता को नसीहत दी कि यदि ममता से लॉ एंड आर्डर नियंत्रित नहीं होता है तो उनको सीएम पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। mamta slams rss

( प्रवीण कुमार )