मनमोहन सिंह ने पहली बार पीएम मोदी की तारीफ कर सबको चौका दिया




पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह नोट बंदी के फैसले को संगठित लूट करार दे चुके है लेकिन वित्त मामलों की समिति की बैठक में मनमोहन सिंह ने नरम रुख सबको चौका दिया। विपक्षियों के होश उड़ गए जब मनमोहन सिंह ने नोटबंदी के गवर्नर उर्जित पटेल का समर्थन किया। manmohan singh praises modi 

मनमोहन सिंह ने समिति के समक्ष उपस्थित उर्जित पटेल को समिति के सवालों से बचने की सलाह दे डाली, जिससे विपक्षी नेता हैरान और परेशान हो गये। विपक्ष सरकार को घेरने के फ़िराक में था लेकिन पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने उर्जित पटेल के समर्थन में आकर विपक्ष के मंसूबो पर पानी फेर दिया। manmohan singh praises modi 

नोटबंदी की घोषणा के बाद 9.2 लाख करोड़ की नई करेंसी आ चुकी है

आपको बता दें कि मनमोहन सिंह पूर्व में भारतीय रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के गवर्नर रह चुके है। जिस कारण वो गवर्नर की गरिमा और उससे जुडी जिम्मेरदारियों को बखूबी समझते है। समिति के एक सदस्य ने उर्जित पटेल से पूछा कि यदि रकम निकालने की मौजूदा सीमा हटा ली जाती है तो देश की अर्तव्यवस्था खत्म हो जाएगी। इस पर मनमोहन सिंह ने उर्जित पटेल के समर्थन में आकर अगला सवाल पूछने की सलाह दे दी। जिससे समिति के सदस्य ने मनमोहन सिंह पर उर्जित पटेल का बचाव करने का आरोप लगाते हुए कहा कि मनमोहन सिंह ने उर्जित पटेल की मानसिक स्थिति को समझते हुए उनके बचाव में उतरे है। manmohan singh praises modi 

दिल्ली की जनता पानी-बिजली से है त्रस्त केजरीवाल पंजाब चुनाव में है मस्त: मनोज तिवारी

समिति सदस्य के आरोप पर जबाब देते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि हमें देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के दिशा में योगदान देने की आवश्यकता है। वही उर्जित पटेल ने मनमोहन सिंह के निर्देशों का पालन करते हुए बीच का रास्ता अख्तियार करते हुए कहा कि नोटबंदी की घोषणा के बाद 9.2 लाख करोड़ की नई करेंसी आ चुकी है। हालांकि, उर्जित पटेल ने यह नहीं बताया कि अब तक बैंकों में कितनी नई करेंसी जमा हुई है। manmohan singh praises modi 

वही समिति के सदस्य ने आरोप लगाया कि मनमोहन सिंह ने उर्जित पटेल को सवालों का जबाब देने से बचने की सलाह दी। मनमोहन सिंह के द्वारा उर्जित पटेल की बचाव से विपक्ष हैरान और परेशान है। बता दें कि उर्जित को वित्त संबंधी स्थाई समिति के बाद अब शुक्रवार को संसद की लोकलेखा समिति के समक्ष पेश होना है। manmohan singh praises modi