चीन ने कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर लगाई रोक





चीन किसी न किसी बहाने भारत से पंगा लेता रहता है। इस बार इसने कैलाश मानसरोवर जाने वाले तीर्थ यात्रियों की यात्रा पर ही रोक लगा दी। जिसको लेकर भारत ने कड़ी आपत्ति जाहिर की है। कैलाश मानसरोवर जा रहे यात्रियों को वापस दिल्ली बुला लिया गया है क्योंकि चीन ने अडियल रवैये अपनाते हुए गेट ही नहीं खोले थे। जिसके बाद 90 यात्रियों को गैंगटोक बुला लिया गया। mansarovar par china ne lagaya rok 

चीन के रास्ते कैलाश मानसरोवर यात्रा काफी सरल हो जाती है जिसके तहत यात्रियों को नाथुला के रास्ते से कैलाश तक का रास्ता सड़क मार्ग से बसों के द्वारा पूरा किया जाता है इसके बाद लगभग केवल 38 किमी की परिक्रम ही शेष रह जाती है। लेकिन चीन के अड़ियल रवैए से तीर्थयात्री अपने यात्रा को पूरा नहीं कर पाए। कैलाश मानसरोवर का दूसरा रास्ता उत्तराखंड के रास्ते भेजा जाना संभव नहीं है क्योंकि यहां पहले से यात्री की संख्या ज्यादा है। mansarovar par china ne lagaya rok 

गौरतलब है कि उत्तराखंड के रास्ते भी यात्रा की जाती है लेकिन इसमें दूरी ज्यादा होती है। सरकार के पास नाथुला के रास्ते मानसरोवर जाने वाले का तीसरा जत्था भी तैयार हो गया है जिसे फिटनेस सर्टिफिकेट दे दिया गया। जिसे 27 जून को भेजा जाना था लेकिन अब यह संभव नहीं है। mansarovar par china ne lagaya rok 

चीन के इस अडियल रवैए को देखते हुए विदेश मंत्रालय ने लगातार संपर्क करने की कोशिश की लेकिन चीन अपने निर्णय पर अडिग है जिससे अब यात्रा को ही रद्द कर दिया गया है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहल पर 2015 में नाथुला के रास्ते कैलाश मानसरोवर की यात्रा को दोनों तरफ हरी झंड़ी दी गई थी। mansarovar par china ne lagaya rok 

सुधर जाओ सऊदी के मुसलमानों नहीं तो मक्का को कब्र में दफना दूंगा !

जिसमें प्रथम चरण में ही 250 यात्रियों ने इस रास्ते का लाभ उठाया था। जिसके बाद 2016 में भी करीब सात अलग अलग ग्रुप में 125 लोगों ने यात्रा की। लेकिन चीन के इस बार के अड़िएल रवैए से कोई भी यात्री इस रास्ते से यात्रा पर नहीं जा सका है। दरअसल चीन किसी न किसी रूप में भारत को परेशान करता रहता है जहां एक और आगे हाथ बढ़ाता है दूसरी तरफ जैसे ही सहज हो जाते हैं हाथ खिंचने की कोशिश में लग जाता है जिससे भारत चीन के संबंध लगातार तलवार की धार पर ही चले हैं जिसमें अभी भी कोई सुधार दिख नहीं रहा है। mansarovar par china ne lagaya rok