2019 लोकसभा चुनाव जीतने के लिए पीएम मोदी यूपी में दंगे करा रहे है : मायावती




उत्तर प्रदेश में एक बार फिर दलित राजनीति गरमा रही है। सहारनपुर में हुए झड़प इसी दिशा में बढ़ता एक कदम है। बसपा अपनी खोई जमीन वापस करने के लिए इसे हवा दे रही है। बड़गांव इलाके में महाराणा प्रताप जयंती पर शोभायात्रा निकालने के दौरान दलितों और ठाकुरों में संघर्ष हुआ जिसमें एक युवक की मौत हो गई। जिसके बाद कई घर फूंक दिए गए। इस घटना के विरोध में कई दलित संगठन गांधी पार्क में जमा हुए जिन्हें पुलिस ने हटाया तो प्रदर्शनकारी हिंसक हो गए जिसमें कई पुलिसकर्मियों को चोट आई।प्रदर्शनकारियों ने पुलिस चौकी को फूंक दिया। mayawati criticized pm modi 

योगी सरकार पहले ही सख्त हिदायत दे चुके हैं

दरअसल जिस तरह से यह हिंसा हुई है यह साफ लगता है कि यह सुनियोजित था। भीम आर्मी के दलित समाज ने रविदास छात्रावास पर महापंचायत का ऐलान किया था। जिसकी अनुमति प्रशासन ने नहीं दी थी। भीम आर्मी ने वॉट्सअप पर युवाओं को संदेश देकर पंचायत में आने के लिए जमा किया। जिसके बाद युवा छात्रावास पर जमा हो गए। mayawati criticized pm modi 

जैसे ही पुलिस ने वहां सख्ती की तो भीड़ गांधी मैदान पहुंच गई। यहां पर भी पुलिस ने भीड़ को दौड़ा लिया। युवकों को हिरासत में लिया गया। भीम आर्मी का आरोप है कि पुलिस ने बिना मतलब लाठीचार्ज किया है। जिसके खिलाफ लोगों को गुस्सा फूटा है। mayawati criticized pm modi 

मायावती ने इसे उछाला है।

अब इस हिंसक घटनाएं को जातिय रंग दिया जा रहा है। इसपर राजनीति गरम हो गई है। विपक्ष मुद्दे विहिन हैं जिन्हें मुद्दे की तलाश थी। खासकर बसपा सुप्रीमो जिस तरह से लगातार दलितों के मुद्दे उठा नहीं पा रही हैं और वे लगभग चुप्पी साधे हुए थी। उनको प्रदेश में अपने विस्तार का मौका मिल गया है। कह सकते हैं कि बसपा को अपनी खोई जमीन वापस पाने के लिए इस तरह की घटना का इस्तेमाल करने में लगी हैं। mayawati criticized pm modi 

केजरीवाल और लालू यादव ईमानदार नेता है चोर तो पीएम मोदी और अमित शाह है : अखिलेश यादव

वहीं सपा जो विपक्ष की सकारात्मक भूमिका निभाने में लगा है ऐसे मुद्दे को अपने पक्ष में करने के लिए कानून व्यवस्था के तर्क को उछाला। लेकिन इस तरह की घटना का फायदा लेने के लिए मायावती ने इसे उछाला है। वहीं सरकार ने इस मुद्दे को संजीदगी से लेते हुए एडिशनल एसपी का तबादला कर दिया है। योगी सरकार पहले ही सख्त हिदायत दे चुके हैं कि कानून व्यवस्था सुधार उनकी प्राथमिकता में है। mayawati criticized pm modi