बिहार VS उत्तर प्रदेश कौन बनेगा विजेता ?




राष्ट्रपति चुनाव के मद्देनजर विपक्ष आज बैठक कर रहा है जिसमें यह फैसला करेगा कि वह अपने उम्मीदवार देगा या नहीं। अगर उम्मीदवार देगा तो किसे। एनडीए ने रामनाथ कोविंद के रूप में राष्ट्रपति पद के लिए ऐसे उम्मीदवार दिए हैं जिसके बाद कांग्रेस लगभग फंस गई है। इस उम्मीदवार के तय हो जाने के बाद विपक्ष के कई दल अब एनडीए को समर्थन देने की बात कह रहे हैं। meera kumar vesus kovind 

कांग्रेस एक बार फिर चित्त हो गई

ऐसे में कांग्रेस के पास उम्मीदवार खड़ा करना मात्र औपचारिकता भर रह जाएगी। विपक्ष के 17 दलों के नेताओं के साथ कांग्रेस की बैठक हो रही है जिसमें यह तय होगा कि अगर चुनाव में उतरे तो कौन होगा उम्मीदवार। पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की है इससे तो यह तय हो गया है कि अगर कांग्रेस उम्मीदवारी देती है तो वह यही होंगी। meera kumar vesus kovind 

दूसरी तरफ बसपा जैसे दल भी अब रामनाथ कोविंद को समर्थन देने की बात लगभग कह दी है। बसपा सुप्रीमो मायावती का कहना है कि अगर कांग्रेस रामनाथ कोविंद से मजबूत उम्मीदवार देते हैं तो वह समर्थन देगी अन्यथा एनडीए को समर्थन देगी। meera kumar vesus kovind 

कांग्रेस के पास बहुत कम लोगों का समर्थन हासिल है

कांग्रेस इस बैठक के पहले वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात भी की लेकिन नीतीश दोहरी राजनीति के माहिर खिलाड़ी हैं। और फिर से उन्होंने शीर्षासन की तरह पलटी ली है। पहले तो विपक्ष एकता के लिए सबसे पहले सोनिया गांधी के पास गए लेकिन उसके बाद के बैठकों से दूरी बनाने लगे और अब तो सीधे तौर पर एनडीए को समर्थन कर दिया है। meera kumar vesus kovind 

कोविंद का समर्थन तो बहाना है असल में नितीश कुमार को मोदी से हाथ मिलाना है !

ऐसे में कांग्रेस के पास बहुत कम लोगों का समर्थन हासिल है। मुलायम, नीतीश और मायावती जैसे नेताओं ने एनडीए को समर्थन दे दिया है। ऐसे में कांग्रेस का विपक्षी एकता का सपना एक बार फिर टूट गया है। यह तो तय है कि भाजपा ने जिस तरह से अपने उम्मीदवार उतारे हैं उसके बाद से कांग्रेस एक बार फिर चित्त हो गई। meera kumar vesus kovind