मिलिए अगले इमाम से





दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने राजनीति इतिहास के सभी पैतरे को तोड़ दिया है। केजरीवाल न केवल एक धूर्त और चालक नेता है बल्कि गिरगिट की तरह रंग बदलने में भी माहिर है। meet jaama masjid new imam 

मुख़्यमंत्री बनने से पहले केजरीवाल ने सैकड़ो झूठ बोले, उनमे से एक भी पूरा नहीं किया। माय समीकरण का गुड केजरीवाल ने बिहार और यूपी के मंत्रियों से सिखा, आज ये स्थिति है कि केजरीवाल दल-बदलू राजनीति करने में शीर्ष पर है। meet jaama masjid new imam 

यदि बात की जाए केजीरवाल के मुस्लिम प्रेम का तो ये किसी से छुपा नहीं है। दिन व दिन इसमें बढ़ोत्तरी होती जा रही है। पहले केजरीवाल बटला हाउस को लेकर मुस्लिम वर्ग को प्रलोभन देते रहते थे, पर जब रिपोर्ट आई तो केजरीवाल की बोलती बंद हो गई। केजरीवाल ने इसके आलावा भी कई अहम मौके पर इस तरह के बयान दिए जिससे देश में रह रहे करोड़ो देशप्रेमियों का दिल दुखा है। meet jaama masjid new imam 

केजीरवाल के मुस्लिम प्रेम का तो ये किसी से छुपा नहीं है meet jaama masjid new imam 

एक राजनेता का राजनीति के लिए आचार सहिंता लागु होती है, पर केजरीवाल तो सभी मर्यादा को लाँघ कर पाकिस्तान पहुंच जाना चाहते है। हम केजरीवाल के मुस्लिम प्रेम के विरोधी नहीं है, परन्तु बात जब आती है राजनीति की तो ये पता चलता है कि ये छिछोरी राजनीति है।

देखिये इस दम्पत्ति के साथ केजरीवाल सरकार ने क्या किया

भारत विभन्नताओं का देश है, सभी धर्म के लोग यहाँ पर रहते है। जिसका हम सभी सम्मान करते है। जबकि सविंधान में भी इस बात का उल्लेख है कि धर्म की नीति पर देश नहीं चल सकता। इसलिए भारत में रह रहे सभी धर्म, जाति के लोग को सामान अधिकार प्राप्त होना चाहिए। जिसके हम भी समर्थक है। meet jaama masjid new imam 

राजीनीति के लिए कभी गेरुआ तो कभी टोपी पहन लेना तो कभी हाथ में तलवार ले लेना। ये कुशल राजनीति नहीं है। आप ने नोटिस किया होगा कि हाल के दिनों में केजरीवाल ने ईद के दरम्या कई इफ्तार पार्टी का आयोजन किया, और कई इफ्तार में शरीक भी हुए। हम इस बात के विरोधी नहीं है। हम इस बात के विरोधी है कि धर्म के नाम पर राजनीति करना बंद कीजिये। meet jaama masjid new imam 

आज दिल्ली में है तो मुस्लिम की टोपी को धारण कर लेते है, कल पंजाब में रहते है तो सरदारी पगड़ी धारण कर लेते है। और तो और जब कुम्भ मेला का आयोजन होता है तो गंगा ने जाकर डुबकी लगाकर अपने पापों का प्रायश्चित करना चाहते है। केजरीवाल जी इस तरह की गन्दी राजनीति से सरकार नहीं चलती है। सरकार चलाना है तो सभी धर्मों का सम्मान करते हुए अपने कर्तव्यों का पालन करें।  meet jaama masjid new imam 
( ये लेखक के निजी विचार है )