मेरे पिता जी देशभक्त थे : मीरा कुमार




कांग्रेस ने मीरा कुमार को अपना राष्ट्रपति उम्मीदवार घोषित किया है। इनके पिता कभी कांग्रेस के विरोधी हुआ करते थे। पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार दिग्गज दलित नेता व पूर्व उपप्रधानमंत्री जगजीवन राम की सुपुत्री हैं। जगजीवन राम देश के सबसे प्रभावशाली राजनीतिक चेहरों में से एक थे। mere pitaji desh bhakt tha 

मीरा कुमार के पास काफी बड़ा चैलेंज है

जगजीवन राम प्रथम प्रधानमंत्री प. जवाहरलाल नेहरू के अंतरिम सरकार में रहे हैं। सत्तर के दशक तक उनका जबरदस्त प्रभाव रहा। जगजीवन राम 1977 के पहले इंदिरा गांधी के समय प्रधानमंत्री की दावेदारी ठोंक दी थी इसकी भनक इंदिरा गाधी को लग गई थी। 1977 के चुनाव में वे अपनी उम्मीदवारी के लिए पर्याप्त समर्थन नहीं जुटा पाए। और उन्हें उपप्रधानमंत्री पर संतोष करना पड़ा। mere pitaji desh bhakt tha 

1980 के चुनाव में जगजीवन राम को प्रधानमंत्री के रूप में प्रोजेक्ट किया गया लेकिन इंदिरा गांधी की वापसी हो गए। इसके बाद जनता पार्टी छोड़कर कांग्रेज जे बनाई। लेकिन वे सफल नहीं पाएं। 1984 के चुनाव में उनकी पार्टी चुनाव हार गई लेकिन वे जीतकर आएं। इसके बाद इनकी पार्टी को राजीव गांधी ने कांग्रेस में विलय करवा दिया। mere pitaji desh bhakt tha

मीरा कुमार जब से कांग्रेस में आई हैं वे पार्टी छोड़ी नहीं हैं। यही इनकी विश्वसनीयता है। और कांग्रेस की पढ़ी लिखी दलित चेहरा हैं। कांग्रेस ने जब देखा कि रामनाथ कोविंद को जब एनडीए अपना उम्मीदवार बना दिया है तो कोई चारा नहीं बचा कि किसी और को खड़ा किया जाए। mere pitaji desh bhakt tha 

नितीश कुमार गद्दार है वो हमलोगों को धोखा दे रहा है : लालू यादव

विपक्ष को एकजुट करने के लिए कांग्रेस ने ऐसे चेहरे को खोजा जो विवादित भी नहीं है और चर्चित भी रही हैं। खासकर लोकसभा स्पीकर रहते हुए। इनकी शैली को किसी ने शक नहीं किया और बड़े अच्छे ढ़ंग से संसद को चलाया। mere pitaji desh bhakt tha 

हालांकि अभी मीरा कुमार के पास काफी बड़ा चैलेंज है क्योंकि जदयू, दक्षिण के कई दल राजग को समर्थन का ऐलान कर चुके हैं। ऐसे में मीरा कुमार अपनी उम्मीदवारी को कितना सार्थक बना पाती है यह देखने वाली बात होगी।  mere pitaji desh bhakt tha