अमेरिका का मोदी प्रेम है जारी अब ट्रम्प से है दोस्ती की बारी




प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 जून को अमेरिकी दौरे पर जा रहे हैं। जहां अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात करेंगे। इस विशेष दौरे में आतंकवाद सहित कई अहम मुद्दों पर चर्चा होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यह अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पदभार ग्रहण करने के बाद पहली मुलाकात है जिसमें उनके बीच काफी अहम व्यापारिक समझौते होंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति 1 वीजा में संभावित बदलाव करने वाले हैं जिसको लेकर भारत चिंतित है। modi america visit 2017

डोनाल्ड ट्रंप और नरेंद्र मोदी के एक से विचार हैं।

डोनाल्ड ट्रंप के एक निर्णय से करीब तीन लाख भारतीय को नुकसान उठाना पड़ेगा। डोनाल्ड ट्रंप ने एक और अहम फैसले में पेरिस जलसमझौतों से अपने आप को अलग कर लिया है जिससे भारत को काफी नुकसान होगा। अमेरिका का कहना है कि भारत ने प्रदूषण नियंत्रण पर कोई खास कार्य नहीं किया जबकि उसे काफी सहायता राशि दी गई। modi america visit 2017

इसी कारण से पेरिस जलसमझौते से अपने आप को अलग कर दिया। अमेरिका भारत दोनों देश आतंकवाद से निपटने को लेकर एक ही रुख पर कायम है। अमेरिका ने आतंकवाद के विरुद्ध हाल में काफी कड़े कदम उठाए हैं जिसमें भारत का समर्थन है। भारत चाहता है कि आतंकवाद का साथ देने वाले देश पर अमेरिका सख्त रवैया अपनाए रखे। modi america visit 2017

सऊदी अरब और कतर से रक्षा सौदे किए हैं

भारत और अमेरिका आर्थिक प्रगति को बढ़ावा देने तथा सुधार एवं हिंद प्रशांत क्षेत्र में सुरक्षा सहयोग का विस्तार के उपायों पर चर्चा करेगी। बातचीत के दौर में सबसे अहम है पाक प्रायोजित आतंकवाद और क्षेत्रीय सुरक्षा स्थिति पर दोनों नेताओं के बीच प्रमुखता से वार्ता होगी। modi america visit 2017

कोविंद दलित नहीं बल्कि आरएसएस का चमचा है : ममता बनर्जी

अमेरिका ने अभी हाल में सऊदी अरब और कतर से रक्षा सौदे किए हैं जिसको लेकर काफी अहम माना जा रहा है दोनों देश एक दूसरे के खिलाफ हैं। भारत और अमेरिका के बीच व्यापार बढ़ाने और व्यापारिक सहयोग को बढ़ाने के अलावा दोनों नेताओं के रक्षा संबंधों पर भी चर्चा होगी। गौरतलब है कि आतंकवाद सहित कई ऐसे मुद्दे हैं जिसमें डोनाल्ड ट्रंप और नरेंद्र मोदी के एक से विचार हैं। जिसपर चर्चा का सभी को इंतजार है। modi america visit 2017